Enquire now
Enquire NowCall Back Whatsapp Lab report/login
ब्लड प्रेशर(Blood Pressure) को समझना: कारण, लक्षण और उपचार

Home > Blogs > ब्लड प्रेशर(Blood Pressure) को समझना: कारण, लक्षण और उपचार

ब्लड प्रेशर(Blood Pressure) को समझना: कारण, लक्षण और उपचार

Cardiac Sciences | Posted on 03/01/2023 by RBH



ब्लड प्रेशर आज के समय में एक ऐसा शब्द बन चुका है, जिसे आमतौर पर लोग जानते हैं या इससे कुछ-कुछ परिचित हैं। इतना ही नहीं, अगर ब्लड प्रेशर हाई हो तो दिल पर अतिरिक्त पड़ता है और दिल का दौरा भी पड़ सकता है इसलिए इसको सामान्य बनाए रखना बहुत जरूरी है। वहीं, जिस तरह से यह आम हो रहा है, तो ऐसे में इसके बारे में जानना और भी जरूरी होता जा रहा है। 

एक सच यह भी है, कि आज हमारे पास भरपूर जानकारी है, जिसका इस्तेमाल कर के हम अपनी सेहत को बेहतर रख सकते हैं और ब्लड प्रेशर से जुड़ी समस्याओं को सिर्फ काबू ही नहीं हमेशा के लिए खत्म भी किया जा सकता है। इसमें हमारे अनुभवी डॉक्टर आपकी मदद कर सकते हैं। यदि आप किसी भी समस्या का सामना कर रहे हैं तो आपको जयपुर में हृदय रोग विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए।

ब्लड प्रेशर क्या है?

ब्लड प्रेशर को साइलेंट किलर के नाम से भी जाना जाता है। इसे कंट्रोल करने के बहुत से उपाय हम पढ़ते-सुनते रहते हैं, लेकिन यह ज्यादा जरूरी है कि हम इसके बारे में सही ढंग से समझें और तभी इसका इलाज शुरू करें। ब्लड प्रेशर के दो प्रकार होते हैं। एक है लो ब्लड प्रेशर और दूसरा है हाई ब्लड प्रेशर। 

उच्च रक्तचाप और हाइपरटेंशन या हाई ब्लड प्रेशर एक सामान्य बीमारी है, जिसमें आपकी धमनियों में रक्त का दबाव समय के साथ धीरे-धीरे बढ़ कर इतना अधिक हो जाता है, कि अंततः इसकी वजह से स्वास्थ्य समस्याएं होने लगती हैं जैसे कि हृदय रोग। इसके साथ ही, अतिरिक्त लो ब्लड प्रेशर भी शरीर के लिए हानिकारक होता है और सामान्य तौर पर 120/80 तक ब्लड प्रेशर नार्मल माना जाता है। 

कैसे कंट्रोल करें हाई ब्लड प्रेशर?

हाइपरटेंशन और उच्च रक्तचाप के ऐसे बहुत से मामले सामने आए हैं, जिनमें यह एक जानलेवा बीमारी साबित हुई है। ऐसे में, इसे कंट्रोल में रखने के साथ ही गंभीरता से लेना भी ज़रूरी है। यह हैं ब्लड प्रेशर नियंत्रित करने के तरीके -

  • नींबू पानी: अगर आपको ब्लड प्रेशर से जुड़ी समस्या है और तुरंत डॉक्टर के पास जाने का समय ना हो, तो आप घर पर ही नींबू पानी बनाकर पी लें। यह हर 30 मिनट में पीने से ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहेगा और आप पहले से ज़्यादा बेहतर महसूस करेंगे। 
  • आंवला: आंवले का जूस ब्लड प्रेशर के लिए बहुत फायदेमंद होता है। यह सहज और सस्ता भी है, जो जल्द फायदा पहुंचाता है। इसके अलावा, इसका जूस हमारे बालों और त्वचा के लिए भी अच्छा होता है।
  • पपीता: हमारे आसपास और प्रकृति में मौजूद कई प्रकार के फल फूलों में पपीता एक वरदान माना जाता है, जो सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है। वहीं, ब्लड प्रेशर को कंट्रोल में रखने के लिए भी इसका सेवन जरूरी माना जाता है।
  • लौकी: लौकी एक ऐसी सब्जी है, जिसका हरी सब्जियों में अलग ही महत्व है। इसका जूस पीने से ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है।
  • मीठा: आयुर्वेदिक तरीकों में हाई ब्लड प्रेशर को संतुलन में रखने के लिए मीठा खाने को अच्छा माना गया है।

हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए आप ऊपर बताए गए पांच तरीकों का घर में इस्तेमाल कर सकते हैं। इन सभी उपायों के अंदर आयुर्वेद से जुड़े बहुत फायदेमंद बातें छिपी हैं।

  • पूरे दिन में नमक का सेवन कम करें। दिन में एक चम्मच से अधिक नमक का खाएं।
  • लो फैट वाले आहार लें, जिसमें ताज़ी सब्जियां शामिल हो 
  • कैफीन युक्त खाद्य या पेय पदार्थ के सेवन को कम करें।
  • शराब को हाथ न लगाएं
  • धूम्रपान न करें 
  • सही वजन बनाए रखें

लो ब्लड प्रेशर में क्या करें

लो ब्लड प्रेशर या निम्न रक्तचाप एक स्वाभाविक शारीरिक स्थिति है, जिसमें रक्त का प्रवाह बहुत ज्यादा कम हो जाता है। सामान्यतः 90/60 mmHg या इससे कम ब्लड प्रेशर लो ब्लड प्रेशर की श्रेणी में आता है। निम्न रक्तचाप के कारण व्यक्ति को बहुत सारी समस्याओं का सामना करना पड़ता है, जैसे चक्कर आना, थकावट, भूख न लगना, और मतली। कुछ उपाय करने से लो ब्लड प्रेशर की स्थिति को त्वरित नियंत्रित किया जा सकता है जैसे - 

  • नमक पानी पिएं। नमक से ब्लड प्रेशर सामान्य हो जाता है और कुछ ही समय में लक्षणों से राहत भी मिल जाती है।
  • एक कप स्ट्रॉन्ग कॉफी पीएं। कॉफी शरीर में रक्त के बहाव को तेज करने में मदद करता है, जिसका लाभ आपको ज़रूर मिलेगा।
  • आइसोमेट्रिक हैंडग्रिप व्यायाम (Isometric Handgrip Exercise) करें। इसके साथ-साथ मेडिटेशन भी आपके लिए लाभकारी साबित होगा।
  • तनाव को दूर रखें और मन को शांत रखें

ब्लड प्रेशर नापने का तरीका

आज ब्लड प्रेशर एक आम समस्या बन चुकी हाई और इसकी चर्चा भी आम हो चुकी है। यही वजह है, कि सुरक्षा कारणों से लोग अपने घरों में भी बीपी चेक करने की मशीन रखने लगे हैं, जिससे वह किसी भी खतरे को कम या टाल सके। हालांकि, बीपी नापते वक्त कुछ बातों का ध्यान रखना ज़रूरी होता है, जैसे कि सही समय, हाथ की सही पोजीशन क्योंकि ऐसा न होने पर गलत रिजल्ट आ सकता है।

इतना ही नहीं, अगर आप सही रीडिंग लेते हैं, तो इसे डॉक्टर के साथ साझा कर परामर्श हैं। आइए जानते हैं कि सही रीडिंग कैसे लेते हैं – 

  • खाने के 2 घंटे बाद बीपी चेक करें 
  • दोनों हाथों से रीडिंग लें 
  • शरीर का रिलैक्स होना ज़रूरी है
  • रीडिंग दिन में कम से कम दो बार चेक करें 
  • बीपी नापते वक्त ढीले कपड़े पहनें 

वर्तमान में हर काम की गति कई गुणा बढ़ गई है और व्यक्ति हर काम को करने के लिए परेशान रहता है। ऐसे में, इस भाग दौड़ भरी जिंदगी में हम काई बार अपनी सेहत के प्रति लापरवाह हो जाते हैं और किसी बड़ी बीमारी को खुद न्योता दे देते हैं या उसके शिकार हो जाते हैं। इसके अलावा, ऐसे मामलों में बिना देर किए डॉक्टर से बात करनी चाहिए। 

ब्लड प्रेशर से संबंधित कुछ मिथक और उनके तथ्य

हालांकि ब्लड प्रेशर के संबंध में कुछ मिथक और उनके तथ्य हैं, जिनके बारे में आपको ज़रूर पता होना चाहिए जैसे - 

मिथक

तथ्य

हाई ब्लड प्रेशर केवल बुजुर्ग लोगों को होता है।

यह सच नहीं है। किसी भी उम्र के लोगों को उच्च रक्तचाप की समस्या हो सकती है।

उच्च रक्तचाप का इलाज नहीं है।

यह सच नहीं है। जीवनशैली में बदलाव और दवाओं के साथ उच्च रक्तचाप को सफलतापूर्वक नियंत्रित किया जा सकता है और स्वस्थ जीवनशैली की सहायता से इसे हमेशा के लिए रोका भी जा सकता है।

कॉफी पीने से ब्लड प्रेशर बढ़ता है।

यह सच नहीं है। अध्ययनों से पता चला है कि कॉफी का रक्तचाप पर बहुत कम या कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। लेकिन लो ब्लड प्रेशर के मामले में यह उपयोगी साबित होता है।

तनाव का रक्तचाप पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता।

यह एक मिथक है, क्योंकि तनाव के कारण रक्तचाप बढ़ सकता है, जो अंततः हमारे लिए हानिकारक साबित हो सकता है।

अधिक नमक खाने से रक्तचाप बढ़ता है।

यह सच है क्योंकि सोडियम के अधिक मात्रा में सेवन से ब्लड प्रेशर बढ़ता है।

व्यायाम करने से रक्तचाप बढ़ता है।

यह सच नहीं है। व्यायाम वास्तव में रक्तचाप को कम करने में मदद करता है। डॉक्टर नियमित व्यायाम की सलाह देते हैं।

हर्बल सप्लीमेंट रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए प्रभावी हैं।

बिना डॉक्टर के परामर्श के ब्लड प्रेशर के लिए किसी भी प्रकार की दवा का सेवन न करें। इससे आपको बहुत नुकसान का सामना करना पड़ सकता है।

ब्लड प्रेशर से संबंधित अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

 

ब्लड प्रेशर क्यों बढ़ता है?

बेढंग जीवनशैली और गंदे खान-पान से ही ब्लड प्रेशर ज्यादातर बढ़ जाता है पर कई बार अतिरिक्त तनाव भी इसका कारण बन जाता है।

हाई ब्लड प्रेशर में कौन सा फल खाना चाहिए?

केले का सेवन मरीज़ों के लिए कई फायदेमंद होता है क्यूंकि इसमें काफी मात्रा में पोटैशियम होता है जिससे सोडियम लेवल पर प्रभाव पड़ता है और ब्लड शुगर लेवल नियंत्रित रहता है।

लो बीपी में कौन सा फल खाना चाहिए?

केला, सेब, बेरीज, आम, तरबूज़, कीवी अदि फल खाना चाहिए ।

उच्च रक्तचाप और अस्थमा का क्या संबंध है?

इन दोनों ही रोग में कोई संबंध नहीं है। यह दोनों ही रोग अलग-अलग हैं और इसके लक्षण भी अलग होते हैं। बस इलाज की योजना के संबंध में कुछ समानताएं हैं जैसे दोनों ही स्थिति में लक्षणों का इलाज किया जाता है।

उच्च रक्तचाप कैसे नियंत्रित करें?

उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए जीवनशैली में बदलाव और दवाएं दोनों की आवश्यक है। निम्न तरीकों से हाई ब्लड प्रेशर को नियंत्रित किया जा सकता है - 

  • सोडियम का सेवन कम करें
  • पोटेशियम का सेवन बढ़ाएं
  • स्वस्थ वजन बनाए रखें
  • नियमित रूप से व्यायाम करें
  • शराब का सेवन कम करें
  • धूम्रपान न करें

ब्लड प्रेशर कितना रहना चाहिए

सामान्य रक्तचाप 120/80 mmHg या उससे कम होना चाहिए। इससे बहुत ज्यादा कम या बहुत ज्यादा अधिक हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

ब्लड प्रेशर को कैसे कंट्रोल करें

लो और हाई ब्लड प्रेशर दोनों ही स्थिति एक व्यक्ति को परेशान करती है। कुछ निर्देशों का पालन कर आप अपना ब्लड प्रेशर कंट्रोल कर सकते हैं जैसे - 

  • नियमित रूप से अपना बीपी नापे।
  • अपने डॉक्टर से निरंतरता के साथ परामर्श लें।
  • एक स्वस्थ जीवनशैली अपनाएं। 

ब्लड प्रेशर का नियंत्रण बहुत ज्यादा आवश्यक है। शुरुआत में इलाज की योजना बनाने से आपको लाभ मिलेगा।