Enquire NowCall Back Whatsapp Lab report/login
टेस्टोस्टेरोन क्या है? टेस्टोस्टेरोन के उपयोग, लाभ और जरूरी स्तर

Home > Blogs > टेस्टोस्टेरोन क्या है? टेस्टोस्टेरोन के उपयोग, लाभ और जरूरी स्तर

टेस्टोस्टेरोन क्या है? टेस्टोस्टेरोन के उपयोग, लाभ और जरूरी स्तर

Diabetes and Endocrine Sciences | Posted on 11/14/2023 by Dr. Abhinav Kumar Gupta



टेस्टोस्टेरोन (Testosterone) एक पुरुष सेक्स हार्मोन है। यह हार्मोन पुरुष और महिलाओं दोनों में ही मौजूद होता है, लेकिन महिलाओं में इस हार्मोन का स्तर बहुत कम होता है। पुरुषों में यह हार्मोन अंडकोष और महिलाओं में अंडाशय में होता है। पुरुषों में इसका कार्य शारीरिक विकास और प्रजनन स्वास्थ्य को बनाए रखना है। चलिए इस ब्लॉग के द्वारा टेस्टोस्टेरोन से संबंधित जानकारी प्राप्त करते हैं जैसे - टेस्टोस्टेरोन क्या है, टेस्टोस्टेरोन लेवल कितना होना चाहिए टेस्टोस्टेरोन ज्यादा होने के नुकसान, इत्यादि। इस संबंध में किसी भी प्रकार की जानकारी के लिए आप हमारे विशेषज्ञों से भी संपर्क कर सकते हैं। 

टेस्टोस्टेरोन क्या है? - Testosterone meaning in hindi

टेस्टोस्टेरोन एक हार्मोन है, जिसका निर्माण वृषण या फिर टेस्टिकल्स में होता है। टेस्टोस्टेरोन का कार्य मांसपेशियों के विकास, वसा के वितरण, और हड्डियों के स्वास्थ्य को दुरुस्त रखना है। इसके अतिरिक्त टेस्टोरोन पुरुष प्रजनन क्षमता को स्वस्थ रखने का कार्य भी करता है। 

आसान भाषा में कहा जाए तो टेस्टोस्टेरोन का कार्य पुरुषों को उनकी विशेषता प्रदान करना है जैसे - आवाज, चेहरे की बनावट और शरीर के बाल। इसके साथ-साथ यह हार्मोन हृदय और हड्डियों की देखभाल भी करता है। लेकिन आपको एक बात और समझनी होगी कि उम्र के साथ, पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन का स्तर कम होने लगता है।

टेस्टोस्टेरोन के लाभ और महत्व

जैसे ही शरीर इस हार्मोन का उत्पादन करता है, उसके बाद वह रक्त के द्वारा शरीर के अलग अलग अंग में चला जाता है और महत्वपूर्ण कार्यों को पूरा करता है। इसके कारण शारीरिक बदलाव के साथ-साथ मानसिक बदलाव भी आते हैं। टेस्टोस्टेरोन बहुत सारे कार्य को करने के लिए जाना जाता है जैसे - 

  • मांसपेशियों को मजबूत करना
  • हड्डियों के द्रव्यमान को बनाए रखना
  • यौन क्षमता में कमी न लाना
  • पुरुषत्व (Masculinities) को विकसित करना
  • रेड ब्लड सेल्स का उत्पादन बढ़ाना

टेस्टोस्टेरोन लेवल कितना होना चाहिए 

अमेरिकन यूरोलॉजिकल एसोसिएशन (AUA) के अनुसार, एक पुरुष के शरीर में टेस्टोस्टेरोन का सामान्य स्तर 300 से 1000 (ng/dL) नैनो ग्राम प्रति डेसीलीटर होना चाहिए। इस स्तर से नीचे का स्तर टेस्टोस्टेरोन लेवल की कमी को दर्शाता है। इसके कम होने के कई कारण हैं और बढ़ती उम्र इसका मुख्य लक्षण है। युवावस्था में यह स्तर बहुत तेजी से बढ़ता है। लेकिन कुछ लक्षण है, जो दर्शाते हैं कि इसका स्तर लगातार गिर रहा है, जिसके बारे में हम आगे बात करेंगे।

टेस्टोस्टेरोन की कमी के लक्षण - Testosterone Deficiency Symptoms in Hindi

शरीर में टेस्टोस्टेरोन की कमी के कई लक्षण होते हैं और यह आप मानसिक और शारीरिक रूप से महसूस भी कर सकते हैं। टेस्टोस्टेरोन के निचले स्तर के कारण व्यक्ति को निम्न परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है -

मानसिक समस्याएं -

  • खराब मूड या चिड़चिड़ापन
  • डिप्रेशन या अवसाद
  • थकान महसूस होना 
  • एकाग्रता में कमी 
  • जल्दी थक जाना

शारीरिक समस्याएं -

  • बाल झड़ना या फिर शरीर के बालों का कम होना
  • दाढ़ी कम आना
  • वीर्य (स्पर्म) की मात्रा कम होना
  • मेल ब्रेस्ट
  • शरीर का अचानक गर्म हो जाना और अत्यधिक पसीना आना
  • मांसपेशियों को नुकसान और ताकत में कमी
  • अचानक वजन बढ़ना 
  • व्यायाम के बाद सामान्य स्थिति में आने में अधिक समय लगना

यौन संबंधित समस्याएं -

  • स्तम्भन दोष (इरेक्शन बनाए रखने में कठिनाई) 
  • ओर्गास्म प्राप्त करने में कठिनाई
  • यौन संबंध स्थापित करने की इच्छा में कमी

टेस्टोस्टेरोन को प्रभावित करने वाले कारक

हम आपको पहले ही बता चुके हैं कि बढ़ती उम्र के साथ टेस्टोस्टेरोन का स्तर कम होने लगता है। 30 साल की अवस्था के बाद टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन शरीर में कम होता है। उम्र के साथ-साथ टेस्टोस्टेरोन के स्तर को कई कारक प्रभावित करते हैं। इस स्तर को प्रभावित करने वाले कारक इस प्रकार है -

  • टेस्टिकल्स (अंडकोष) का संक्रमण
  • मादक पदार्थ (ड्रग्स) का सेवन
  • टेस्टिकल्स (अंडकोष) में चोट
  • टाइप 2 डायबिटीज
  • गुर्दे का रोग
  • मोटापा
  • एचआईवी एड्स

कुछ मामलों में 30 साल से कम उम्र के लोगों में टेस्टोस्टेरोन का स्तर कम होता है और इसके पीछे का कारण है हाइपोगोनाडिज्म (hypogonadism)। इसके अतिरिक्त अधिक स्ट्रेस और खराब जीवनशैली भी हार्मोन के स्तर में गिरावट का महत्वपूर्ण कारक है।

टेस्टोस्टेरोन की कमी से क्या होता है

टेस्टोस्टेरोन में कमी शरीर में कई सारी समस्याओं का संकेत देता है, जैसे - 

  • स्पर्म काउंट कम होना 
  • छाती के आसपास सूजन या फिर उसके टिश्यू बढ़ना
  • बॉडी में फैट का बढ़ना
  • इनफर्टिलिटी
  • यौन इच्छा में कमी
  • ताकत की कमी या थकावट महसूस होना
  • शरीर के बालों का झड़ना

महिलाओं में टेस्टोस्टेरोन बढ़ने से क्या होता है

यह हार्मोन महिलाओं में भी पाया जाता है। टेस्टोस्टेरोन ज्यादा होने के नुकसान का सामना महिलाओं को करना पड़ता है। बढे हुए हार्मोन के स्तर के कारण महिलाओं को निम्नलिखित समस्याओं का सामना करना पड़ता है - 

  • चेहरे पर दाढ़ी-मूंछ आना
  • स्तन के आकार में कमी
  • एक्ने और ऑयली स्किन
  • पीरियड्स के समय में बदलाव
  • डिप्रेशन या अवसाद

टेस्टोस्टेरोन के असंतुलन का इलाज 

टेस्टोस्टेरोन के असंतुलन का इलाज इसके कारण पर निर्भर करता है। टेस्टोस्टेरोन की कमी के इलाज के कई विकल्प मौजूद हैं जैसे - टेस्टोस्टेरोन रिप्लेसमेंट थेरेपी (testosterone replacement therapy), टेस्टोस्टेरोन कैप्सूल या टैबलेट, लोशन, क्रीम या इंजेक्शन। यदि किसी दूसरी स्वास्थ्य समस्या के कारण आपके टेस्टोस्टेरोन में असंतुलन है, तो डॉक्टर उस स्वास्थ्य समस्या का इलाज करते हैं। इससे हार्मोन का स्तर अपने आप सामान्य हो जाता है। 

यदि टेस्टोस्टेरोन की कमी किसी अन्य स्वास्थ्य समस्या से नहीं होती है, तो टेस्टोस्टेरोन थेरेपी का उपयोग किया जा सकता है। टेस्टोस्टेरोन थेरेपी में टेस्टोस्टेरोन का इंजेक्शन, गोली, या जेल का प्रयोग होता है। इसके अतिरिक्त टेस्टोस्टेरोन असंतुलन के लिए कुछ घरेलू उपचार भी हैं, जैसे - 

  • टेस्टोस्टेरोन बूस्टर फूड लें
  • नियमित रूप से व्यायाम करें
  • पर्याप्त नींद लें
  • तनाव कम करें

टेस्टोस्टेरोन में असंतुलन के मामले में अपने डॉक्टर से बात करें। वह स्तर की जांच कर उचित इलाज प्रदान करेंगे।

टेस्टोस्टेरोन रिप्लेसमेंट थेरेपी 

टेस्टोस्टेरोन रिप्लेसमेंट थेरेपी (टीआरटी) को एंड्रोजेन रिप्लेसमेंट थेरेपी भी कहा जाता है। यह एक हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी है, जिससे टेस्टोस्टेरोन के कम स्तर का इलाज सफलता और सुगमता से हो पाता है। यदि आपको हाइपोगोनाडिज्म का निदान हुआ है, तो डॉक्टर इस प्रक्रिया का सुझाव देते हैं। यह एक सुरक्षित प्रक्रिया है, लेकिन इस प्रक्रिया से पहले रोगी को इससे संबंधित जोखिम और लाभों के संबंध में अपने डॉक्टर से बात ज़रूर करनी चाहिए।

सारांश

कई कारक हैं, जो टेस्टोस्टेरोन के स्तर को प्रभावित कर सकते हैं। डॉक्टर इस हार्मोन के स्तर के आधार पर इलाज की योजना बनाते हैं। वह शुरुआती मामलों में टेस्टोस्टेरोन बूस्टर फूड, व्यायाम, और जीवनशैली में बदलाव का सुझाव देते हैं। टेस्टोस्टेरोन के कम स्तर के इलाज के बारे में अधिक जानने के लिए आप हमारे विशेषज्ञों से बात करें।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

 

टेस्टोस्टेरोन बूस्टर फूड क्या है?

अंगूर और अनार एसे फल है, जो टेस्टोस्टेरोन के स्तर को 24% तक बढ़ाने में मदद कर सकते हैं। अनार मोटापे से होने वाली सूजन को भी रोकता है, जो टेस्टोस्टेरोन के स्तर को कम करने में सहायक है।

टेस्टोस्टेरोन की कमी से कौन सा रोग होता है?

पुरुषों में टेस्टोरोन के स्तर के कम होने से कई बीमारियां हो सकती हैं जैसे - हड्डियों का कमजोर होना (ऑस्टियोपोरोसिस), मेल ब्रेस्ट का आना, बाल झड़ना, इत्यादि।

टेस्टोस्टेरोन ज्यादा होने के क्या नुकसान है?

जिस प्रकार पुरुषों में इस हार्मोन के कम होने से समस्या होती है, उसी प्रकार महिलाओं में इस हार्मोन के ज्यादा होने से नुकसान होता है। जिन महिलाओं के शरीर में टेस्टोस्टेरोन का स्तर अधिक होता है, उनके चेहरे और शरीर के दूसरे अंगों पर अधिक और घने बाल आने लगते हैं।