Enquire NowCall Back Whatsapp Lab report/login
किडनी खराब होने के लक्षण

Home > Blogs > किडनी खराब होने के लक्षण

किडनी खराब होने के लक्षण

Renal Sciences | by Dr. Pankaj Kumar Gupta | Published on 20/10/2023



किडनी हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है, जो शरीर के समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखने में बड़ी भूमिका निभाता है। किडनी का मुख्य कार्य रक्त को फिल्टर करना है और अपशिष्ट उत्पादों को रक्त से हटाकर इलेक्ट्रोलाइट्स और रक्तचाप जैसे आवश्यक पदार्थों को नियंत्रित करना है। किडनी खराब होने की समस्या समय के साथ धीरे-धीरे विकसित होती है। यही कारण है कि अक्सर शुरुआती चरणों में इस स्वास्थ्य स्थिति के लक्षण उत्पन्न नहीं होते हैं। 

जैसे-जैसे किडनी की कार्यप्रणाली खराब होती है, लक्षण अधिक स्पष्ट होने लगते हैं, लेकिन तब तक किडनी को अपरिवर्तनीय नुकसान हो जाता है। इसलिए, समय पर निदान और प्रभावी उपचार के लिए किडनी की विफलता के शुरुआती लक्षणों को पहचानना आवश्यक है और सही समय पर एक श्रेष्ठ नेफ्रोलॉजिस्ट से भी मिलने का सुझाव दिया जाता है। 

इस ब्लॉग में किडनी खराब होने के लक्षण के संबंध में सामान्य जानकारी उपलब्ध है, जिससे आपको स्वस्थ जीवन व्यतीत करने में मदद मिलेगी। अधिक स्पष्ट जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

किडनी खराब होने के शुरुआती लक्षण

किडनी खराब होने पर आप खुद में कुछ लक्षणों का अनुभव कर सकते हैं। इन लक्षणों में निम्न लक्षण शामिल है - 

  • बार-बार पेशाब आना: किडनी की समस्याओं के शुरुआती लक्षणों में बार-बार पेशाब आना मुख्य लक्षण है। यह समस्या अक्सर रात में उत्पन्न होती है। 
  • मूत्र उत्पादन में कमी: दूसरी ओर कुछ लोगों को मूत्र उत्पादन में उल्लेखनीय कमी का अनुभव होता है, जो किडनी की समस्याओं की तरफ इशारा करता है। 
  • मूत्र में रक्त (हेमाट्यूरिया): मूत्र में रक्त की उपस्थिति विभिन्न किडनी रोग का संकेत देती है। इस स्थिति को चिकित्सा भाषा में हेमाट्यूरिया भी कहा जाता है।
  • प्रोटीनुरिया: स्वस्थ किडनी अपशिष्ट और अतिरिक्त तरल पदार्थ को फिल्टर करते हैं, लेकिन रक्त में आवश्यक प्रोटीन बनाए रखते हैं। हालांकि, किडनी की बीमारी के शुरुआती चरणों में किडनी से मूत्र में प्रोटीन का रिसाव हो सकता है, जिसे प्रोटीनूरिया कहा जाता है। 
  • सूजन: किडनी खराब होने से शरीर में नमक और पानी जमा हो जाता है, जिसके परिणामस्वरूप शरीर में सूजन देखने को मिलती है। विशेष रूप से खराब किडनी की स्थिति में टखनों, पैरों और चेहरे पर सूजन एक आम समस्या है। यह सूजन सुबह के समय अधिक देखने को मिलती है।
  • थकान और कमजोरी: किडनी की कार्यप्रणाली में कमी से रक्त प्रवाह में अपशिष्ट उत्पादों और विषाक्त पदार्थों का संचय हो सकता है। इसके कारण थकान, कमजोरी और ऊर्जा में कमी देखने को मिलती है।
  • उच्च रक्तचाप: किडनी रक्तचाप को नियंत्रित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। जब वह ठीक से काम नहीं कर पाते हैं, तो रक्तचाप बढ़ जाता है, जो किडनी की समस्याओं का प्रारंभिक चेतावनी संकेत हो सकता है।
  • पीठ दर्द: किडनी की समस्या में पीठ दर्द तो होता है, लेकिन इसकी तीव्रता और स्थान अलग-अलग होते हैं। 
  • भूख और स्वाद में बदलाव: किडनी रोग के प्रारंभिक चरण में रोगी को मुंह में धातु जैसा स्वाद या भूख की कमी का अनुभव होता है।
  • रूखी और खुजलीदार त्वचा: किडनी रक्त से अपशिष्ट उत्पादों को हटाने में मदद करते हैं, और जब वह अच्छी तरह से काम नहीं करते हैं, तो अपशिष्ट उत्पाद जमा हो जाते हैं और सूखापन और खुजली सहित त्वचा की समस्याएं पैदा कर सकते हैं।
  • मतली और उल्टी: जैसे ही अपशिष्ट उत्पाद रक्त प्रवाह में जमा होते हैं, वह मतली और उल्टी का कारण बन सकते हैं। खासकर सुबह के समय रोगी को इस लक्षण का अनुभव होता है।
  • अचानक से वजन घटना: बिना मेहनत किए वजन कम होना किडनी की बीमारी का लक्षण होता है, क्योंकि अपशिष्ट उत्पादों के निर्माण के लिए ऊर्जा चाहिए, जिसका उत्पादन शरीर मांसपेशियों से होता है। 
  • ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई और भ्रम: जब किडनी रक्त प्रवाह से अपशिष्ट और विषाक्त पदार्थों को प्रभावी ढंग से नहीं निकाल पाते हैं, तो यह मस्तिष्क के कार्य को प्रभावित कर सकते हैं, जिससे ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई होती है और भ्रम की स्थिति भी उत्पन्न हो सकती है।

किडनी खराब होने के लक्षण और उपाय जान लेने से आपको बहुत मदद मिल सकती है। इसके लिए एक अनुभवी और श्रेष्ठ नेफ्रोलॉजिस्ट से मिलें।

डॉक्टर से कब मिलना चाहिए?

किडनी खराब होने पर इसके शुरुआती लक्षणों को पहचानना महत्वपूर्ण है, क्योंकि शुरुआती हस्तक्षेप से बीमारी की प्रगति धीमी हो सकती है और सफल उपचार की संभावना में सुधार हो जाता है। अगर आप ऊपर दिए गए लक्षणों में से किसी भी लक्षण का अनुभव करते हैं, तो विशेषज्ञ से परामर्श करना आवश्यक है। निम्न लक्षणों का अनुभव होने पर आपको तुरंत विशेषज्ञ से मिलना चाहिए - 

  • लगातार लक्षणों का बने रहना: यदि आप ऊपर सूचीबद्ध किसी भी लक्षण को कुछ दिनों से अधिक समय से अनुभव कर रहे हैं और उनमें सुधार नहीं हो रहा है, तो तुरंत विशेषज्ञ से परामर्श लें।
  • उच्च रक्तचाप: यदि आपको लगातार उच्च रक्तचाप की समस्या रहती है, भले ही आपको अन्य लक्षणों का अनुभव न हो, तो आपके किडनी की कार्यप्रणाली का मूल्यांकन करना आवश्यक हो जाएगा, क्योंकि उच्च रक्तचाप किडनी की समस्याओं का प्रारंभिक संकेत होता है।
  • पारिवारिक इतिहास: यदि आपके घर परिवार में किसी को भी किडनी की समस्या रही है, तो आपको भी यह समस्या परेशान कर सकती है।
  • मधुमेह या उच्च रक्त शर्करा स्तर: मधुमेह वाले व्यक्तियों को किडनी की बीमारी का खतरा अधिक होता है। यदि आपको मधुमेह है, तो अपने रक्त शर्करा स्तर को सावधानीपूर्वक प्रबंधित करें और अपनी किडनी की कार्यप्रणाली की निगरानी के लिए नियमित जांच करवाएं।

भले ही आपको किसी भी प्रकार के गंभीर लक्षण न दिखे, लेकिन संदेह होने पर तुरंत डॉक्टर से परामर्श लें और स्थिति का इलाज करें। किसी भी प्रकार की असामान्यता के इलाज के लिए डॉक्टर से बात करें।

दोनों किडनी खराब होने पर क्या होता है

जब एक व्यक्ति की दोनों किडनी खराब हो जाए, तब शरीर में अनावश्यक कचरा जमा होता है, जिसे सिर्फ एक स्वस्थ किडनी साफ कर पाती है। जब किडनी अपना कार्य नहीं कर पाती है, तो इसके कारण रक्त में क्रिएटिनिन और यूरिया की मात्रा बढ़ जाती है। खून की जांच करने पर क्रिएटिनिन व यूरिया की मात्रा में वृद्धि किडनी फेल्योर का संकेत देती है।

निष्कर्ष

किडनी खराब होना एक गंभीर चिकित्सीय स्थिति है, जो धीरे-धीरे विकसित होती है, और अक्सर शुरुआती चरणों में ध्यान देने योग्य लक्षण नहीं होते हैं। समय पर निदान और प्रभावी उपचार के लिए किडनी की विफलता के शुरुआती लक्षणों को पहचानना महत्वपूर्ण है। शुरुआती सामान्य लक्षणों में पेशाब में बदलाव, पेशाब में खून, प्रोटीनमेह, सूजन, थकान, उच्च रक्तचाप, पीठ दर्द, भूख और स्वाद में बदलाव, शुष्क, खुजली वाली त्वचा, मतली, उल्टी, अस्पष्टीकृत वजन कम होना और ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई शामिल है। 

अगर आप इनमें से किसी भी लक्षण का अनुभव करते हैं या उच्च जोखिम वाली श्रेणियों में आते हैं, तो तुरंत विशेषज्ञ से परामर्श करें। शीघ्र हस्तक्षेप से किडनी की बीमारी का प्रबंधन करने और समग्र स्वास्थ्य परिणामों में सुधार करने में मदद मिल सकती है। याद रखें कि नियमित जांच और स्वस्थ जीवनशैली किडनी की समस्याओं को रोकने और आपके किडनी के स्वास्थ्य को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है।

किडनी खराब होने के लक्षण से संबंधित अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न


किडनी खराब होने पर क्या खाना चाहिए?

आहार में किसी भी प्रकार के सप्लीमेंट को जोड़ने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर करें। किडनी को स्वस्थ रखने के लिए आप निम्नलिखित खाद्य पदार्थों को अपने आहार में ज़रूर शामिल करें -

  • जामुन
  • प्रोबायोटिक्स में उच्च खाद्य पदार्थ, जैसे अचार, सॉकरौट, सादी दही इत्यादि
  • उच्च फाइबर वाले खाद्य पदार्थ जैसे केले, बीन्स, दाल, बादाम, जई और अन्य होल ग्रेन 
  • ओमेगा-3 फैटी एसिड

किडनी खराब होने पर क्या नहीं खाना चाहिए?

संक्रमण की स्थिति और भी बिगड़ सकती है, यदि स्थिति का निदान और इलाज समय पर नहीं होता है। कुछ खाद्य पदार्थ जिनसे बचना चाहिए जैसे - 

  • मीठे खाद्य पदार्थ
  • मसालेदार व्यंजन
  • खट्टे फल
  • कैफीन युक्त पेय पदार्थ

किडनी की सूजन को कम कैसे करें?

किडनी में मूत्र जमा होने के कारण किडनी में होने वाली सूजन को हाइड्रोनफ्रोसिस कहा जाता है। हाइड्रोनफ्रोसिस की समस्या किस कारण से हुई है उसी के आधार पर ही किडनी की सूजन का उपचार होता है। कुछ घरेलु उपचार है जिनका सुझाव भी हमारे डॉक्टर दवाओं के साथ देते हैं। हालांकि बच्चों में पायलोप्लास्टी की आवश्यकता हो सकती है, जिसकी जटिलता कम है और सफलता दर बहुत अधिक। 

किडनी इन्फेक्शन के लिए टेस्ट कौन से हैं?

किडनी इन्फेक्शन की समस्या का निदान करने के लिए, डॉक्टर निम्नलिखित परीक्षणों का उपयोग कर सकते हैं - 

  • यूरीनालिसिस
  • यूरिन कल्चर
  • वॉयडिंग सिस्टोयूरेथ्रोग्राम (वीसीयूजी)
  • डिजिटल रेक्टल टेस्ट (डीआरई)
  • ब्लड कल्चर
  • मेडिकल हिस्ट्री
  • फुल बॉडी टेस्ट
  • सीटी स्कैन
  • किडनी का अल्ट्रासाउंड
  • डिमरकैप्टोसुकिनिक एसिड (डीएमएसए) सिंटिग्राफी