Enquire NowCall Back Whatsapp Lab report/login
रूखी त्वचा का कारण और घरेलू उपचार

Home > Blogs > रूखी त्वचा का कारण और घरेलू उपचार

रूखी त्वचा का कारण और घरेलू उपचार

Dermatology | Posted on 03/22/2023 by Dr. Asma Akhlaq



त्वचा हमारे शरीर का बहुत ही नाजुक और संवेदनशील भाग है। यह हमारे शरीर का सबसे बाहरी भाग भी है, जो अनेक समस्याओं का सामना करता है और त्वचा का रुखा होना भी उन्हीं समस्याएं में से एक है। रूखी त्वचा या ड्राई स्किन एक असहज स्थिति है, जिसमें पपड़ी, खुजली और दरारें पड़ जाती हैं। यह कई कारणों से हो सकती है, तो वहीं कुछ लोगों को स्वाभाविक रूप से शुष्क त्वचा की समस्या का सामना करना पड़ता है।

लेकिन यदि आपकी त्वचा ऑयली है, तो भी समय-समय पर आपकी त्वचा रूखी हो सकती है। रूखी त्वचा आपके शरीर के किसी भी भाग को प्रभावित कर सकती है। यह आमतौर पर हाथ, और पैर को प्रभावित करता है। कई मामलों में, जीवनशैली में बदलाव और ओवर-द-काउंटर मॉइस्चराइज़र आपको इसके इलाज में मदद कर सकता है।

अगर इन सबसे कोई फायदा नहीं होता है, तो आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। बार-बार हाथ धोने और हैंड सैनिटाइजर के प्रयोग से भी आपके हाथ रूखे हो सकते हैं। हर बार हाथ धोने के बाद मॉइस्चराइजर लगाना मददगार हो सकता है।

शुष्क त्वचा के प्रकार

शुष्क त्वचा के होने के कई कारण हैं, जिनके बारे में हम इस ब्लॉग में बात करने वाले हैं। मौसम की स्थिति, गर्म पानी, और कुछ रसायनों के संपर्क में आना कुछ सामान्य कारक है। मेडिकल भाषा में अत्यधिक रूखी त्वचा को डर्मेटाइटिस के नाम से जाना जाता है। कई अलग-अलग प्रकार की डर्मेटाइटिस होती हैं। चलिए इनमें से कुछ के बारे में जानते हैं - 

  • कॉन्टेक्ट डर्मेटाइटिस: कॉन्टेक्ट डर्मेटाइटिस एक ऐसी स्थिति है, जो तब विकसित होती है, जब आपकी त्वचा किसी भी बाहरी वस्तु के संपर्क में आने से प्रतिक्रिया करती है। 
  • इरिटेंट कॉन्टेक्ट डर्मेटाइटिस: यह समस्या तब उत्पन्न होती है, जब आपकी त्वचा किसी ऐसे पदार्थ के संपर्क में आती है, जिससे आपको खुजली होती है।
  • एलर्जिक कॉन्टेक्ट डर्मेटाइटिस: यह समस्या तब उत्पन्न होती है, जब आपकी त्वचा किसी ऐसे पदार्थ के संपर्क में आती है जिससे आपको एलर्जी हो।
  • सेबोरहाइक डर्मेटाइटिस: सेबोरहाइक डर्मेटाइटिस एक ऐसी स्थिति है, जिसमें आपकी त्वचा बहुत अधिक तेल का उत्पादन करती है। आमतौर, पर यह समस्या स्कैल्प पर देखने को मिलती है। इस प्रकार की डर्मेटाइटिस शिशुओं में आम है।
  • एटोपिक डर्मेटाइटिस: एटोपिक डर्मेटाइटिस को एक्जिमा के रूप में भी जाना जाता है। इस स्थिति को क्रोनिक डर्मेटाइटिस के रूप में भी जाना जाता है। इसमें त्वचा पर सूखे और पपडीचार पैच दिखाई देते हैं। यह समस्या भी बच्चों में बहुत आम है। 

कुछ अन्य स्वास्थ्य समस्याएं हैं, जो शुष्क त्वचा के लिए जिम्मेदारी होती हैं जैसे - सोरायसिस और टाइप 2 डायबिटीज। 

रूखी त्वचा किसे प्रभावित करती है? 

त्वचा का रुखा होना एक आम समस्या है, जो लगभग सभी को अपने जीवन के किसी न किसी मोड़ पर प्रभावित करती है। आपको रूखी त्वचा होने का अधिक जोखिम हो सकता है यदि आप:

  • सूखे या ठंडे मौसम में रहते हैं
  • अक्सर बाहर काम करते हैं
  • अपने हाथ बार-बार धोते हैं
  • एलर्जी जैसी अन्य स्वास्थ्य स्थिति है
  • 65 वर्ष या उससे अधिक उम्र के हैं

ड्राई स्किन के क्या लक्षण हैं?

ड्राई स्किन होने पर आप खुद में कुछ लक्षणों को अनुभव कर सकते हैं जैसे:

  • त्वचा का फटना
  • त्वचा का खुरदरा होना
  • त्वचा का कसा हुआ महसूस होना 
  • त्वचा का फटना
  • त्वचा में खुजली होना
  • कुछ मामलों में त्वचा का रंग बदलना

यदि आपकी त्वचा गंभीर रूप से शुष्क यानी ड्राई है, तो आपकी त्वचा पर रैशेज विकसित हो सकते हैं। दाने में छोटे, फुंसी जैसे उभार हो सकते हैं, खुजली हो सकती है, सूजन हो सकती है या उसके आसपास की त्वचा की तुलना में एक अलग रंग हो सकता है।

खुश्की क्यों होती है

खुशकी या रूखी त्वचा किसी को भी प्रभावित कर सकती है। लेकिन कुछ जोखिम कारक शुष्क त्वचा के विकास की संभावनाओं को बढ़ाते हैं, जैसे - 

  • आयु: जिन लोगों की उम्र अधिक हो जाती है, उनमें शुष्क त्वचा विकसित होने की संभावना अधिक होती है। जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, आपके छिद्र स्वाभाविक रूप से कम तेल का उत्पादन करते हैं, जिससे आपको शुष्क त्वचा का खतरा बढ़ जाता है।
  • चिकित्सा का इतिहास: यदि आपके परिवार में किसी भी त्वचा संबंधित कोई समस्या है फिर किसी प्रकार की एलर्जी है तो आपको भी यह समस्या हो सकती है या फिर आप इस रोग के दायरे में होते हैं।
  • मौसम: रूखी त्वचा सर्दियों के महीनों के दौरान अधिक आम है। इस दौरान नमी का स्तर अपेक्षाकृत कम होता है। गर्मियों में नमी का उच्च स्तर आपकी त्वचा को सूखने से रोकने में मदद करता है, इसलिए गर्मियों में यह समस्या नहीं होती है।

इन सबके अलावा, बार-बार नहाने या बहुत गर्म पानी का इस्तेमाल करने से आपकी त्वचा रूखी होने का खतरा बढ़ जाता है।

ड्राई स्किन के लिए डॉक्टर के कब मिलें?

कुछ स्वास्थ्य स्थिति में आपको अनुभवी त्वचा रोग विशेषज्ञ से मिलना चाहिए, जैसे - 

  • कई प्रयासों के बावजूद भी चेहरे पर रूखापन बना रहता है।
  • ड्राई स्किन के साथ लालिमा का भी होना।
  • सूखापन और खुजली के कारण नींद में समस्या
  • चेहरे पर कोई चोट या संक्रमण का होना।

रूखी त्वचा का घरेलू उपचार

रूखी त्वचा से छुटकारा पाने के लिए एक व्यक्ति विभिन्न प्रकार के घरेलू उपचारों का उपयोग कर सकते हैं। विशेषज्ञ के साथ परामर्श करने के बाद निचे दिए गए अधिकांश उपचारों को मॉइस्चराइजर के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है:

  • सूरजमुखी के बीज का तेल प्रभावित व्यक्ति की त्वचा पर मॉइस्चराइजर के रूप में उपयोग करने पर रूखापन कम होता है।
  • रूखी त्वचा के इलाज के लिए नारियल का तेल पेट्रोलियम जेली की तरह ही सुरक्षित और प्रभावी है।
  • नहाने के पानी में ओटमील का पाउडर मिलाकर या ओटमील वाली क्रीम का इस्तेमाल करने से रूखी त्वचा से राहत मिल सकती है।
  • दूध रूखी त्वचा से भी राहत दिला सकती है। कई शोध से पता चला है कि दूध में पोषक तत्व होते हैं जो रूखी त्वचा की समस्या से आपको बचा सकते हैं। 
  • इन सबके अलावा, शहद और एलोवेरा जेल शुष्क त्वचा से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं। 
  • पेट्रोलियम जेली के रूप में सबसे उपयोगी मॉइस्चराइजर साबित हो सकता है। 

रूखी त्वचा या ड्राई स्किन को कैसे रोकें?

जीवन शैली में परिवर्तन कभी-कभी रूखी त्वचा को रोकने और राहत देने में मदद कर सकता है। रूखी त्वचा के खतरे को दूर करने के लिए आप निम्न बातों को ध्यान में रख सकते हैं:

  • खूब सारा पानी पिएं
  • हर दिन के बजाय हर दूसरे दिन नहाएं
  • नहाने के तुरंत बाद मॉइस्चराइजर लगाएं
  • नहाने के लिए गर्म पानी के इस्तेमाल से बचें
  • अपने घर में ह्यूमिडिफायर का उपयोग करें
  • अपने नहाने का समय 10 मिनट से कम रखें
  • नहाते समय मॉइस्चराइजिंग साबुन का इस्तेमाल करें
  • ड्राई स्किन के पैच को खुजली करने या रगड़ने से बचें
  • रगड़ने के बजाय थपथपाकर गीली त्वचा को मुलायम तौलिये से सुखाएं
  • अपने डॉक्टर के निर्देशानुसार अपनी त्वचा की देखभाल की दिनचर्या बदलें

आपकी त्वचा के प्रकार के लिए सही प्रकार का मॉइस्चराइज़र का चुनाव करें। यदि आपकी त्वचा अत्यधिक रूखी है, तो पेट्रोलाटम-आधारित उत्पाद का प्रयोग करें।

साथ ही, आप गर्मी के महीनों के दौरान हल्के, पानी आधारित लोशन पर स्विच करने पर विचार कर सकते हैं। ऐसे लोशन जिनमें अंगूर के बीज का तेल और एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, वह भी आपकी त्वचा में रूखापन आने से रोकने में मदद कर सकते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न


मेरी त्वचा क्यों सूख रही है?

ठंडी, हवादार परिस्थितियों या कम नमी वाली जलवायु में रहना से त्वचा में रूखापन की समस्या पैदा हो सकती है। बहुत अधिक नहाना या त्वचा को रगड़ना भी इसका कारण बन सकते हैं। दिन में एक से अधिक बार नहाने से आपकी त्वचा से प्राकृतिक तेल भी निकल सकता है जिसके कारण त्वचा शुष्क हो सकती है।

क्या नहाने से आपकी त्वचा रूखी हो सकती है?

लंबे समय तक गर्म पानी से नहाने या रोजाना नहाने से आपकी त्वचा रूखी हो सकती है। साथ ही, कठोर साबुन और डिटर्जेंट आदि का इस्तेमाल भी इसका कारण हो सकते हैं। 

शरीर के किस हिस्से की त्वचा ड्राई हो सकती है?

शरीर के किसी भी हिस्से की त्वचा रूखी हो सकती है, लेकिन सबसे आम हिस्सों में निम्न शामिल हैं:

  • हाथ
  • पैर
  • चेहरा
  • कोहनी
  • मुंह के आसपास
  • गुप्तांग

रूखी त्वचा के लक्षणों कैसे कंट्रोल करें?

रूखी त्वचा के लक्षणों को प्रबंधित करने का सबसे अच्छा तरीका आपकी त्वचा को मॉइस्चराइज रखना है। आपकी त्वचा पर मॉइस्चराइजर लगाने के लिए सबसे अच्छा समय है:

  • जब आप सुबह उठते हैं
  • रात को सोने से पहले
  • नहाने या नहाने के बाद जब आपकी त्वचा नम हो

रूखी त्वचा को मुलायम कैसे करें?

रूखी त्वचा को मुलायम बनाने के लिए त्वचा को पर्याप्त नमी प्रदान करें। इसके लिए आप कुछ उपाय कर सकते हैं जैसे - 

  • मॉइस्चराइज करें
  • गर्म पानी से न नहाएं
  • खुद को हाइड्रेट रखें
  • आहार में नींबू और संतरे जैसे खट्टे फलों को शामिल करें
  • जैतून, अलसी, या बादाम के तेल को अपने आहार में जोड़ें।

रूखी त्वचा के लिए क्या लगाना चाहिए?

रूखी त्वचा के लिए आपको कुछ भी लगाने की आवश्यकता नहीं है। सिर्फ अपने जीवन शैली को दुरुस्त रखें और ऊपर बताए गए उपायों का पालन करें।

रूखी त्वचा के लिए क्या खाना चाहिए?

रूखी त्वचा के लिए आपको अपने आहार में निम्नलिखित खाद्य पदार्थों को शामिल करना चाहिए:

  • फल और सब्जियां
  • होल ग्रेन
  • स्वस्थ वसा

रूखी त्वचा के लिए कौन सा तेल लगाएं?

रूखी त्वचा की स्थिति में निम्नलिखित तेल बहुत ज्यादा लाभकारी साबित हो सकते हैं - 

  • जैतून का तेल
  • अलसी का तेल
  • बादाम का तेल