Enquire NowCall Back Whatsapp Lab report/login
वायु प्रदूषण का फेफड़ों में संक्रमण से संबंध

Home > Blogs > वायु प्रदूषण का फेफड़ों में संक्रमण से संबंध

वायु प्रदूषण का फेफड़ों में संक्रमण से संबंध

Pulmonology | by Dr. Raja Dhar | Published on 25/01/2024



हवा के बहाव में अचानक गिरावट और उसके साथ प्रदूषण में बढ़ोतरी ने सांस संबंधी बीमारियों को बढ़ावा दिया है। इस दौरान अक्सर डॉक्टर चेतावनी देते हैं कि जैसे-जैसे तापमान गिरता है और प्रदूषण का स्तर बढ़ता है, जिससे फेफड़ों में इन्फेक्शन का खतरा भी बढ़ता है। फेफड़ों में संक्रमण के साथ अस्थमा, सीओपीडी और सांस की अन्य बीमारियां भी उत्पन्न होती हैं। यदि आप भी इस स्थिति का सामना कर रहे हैं, तो हम आपको सलाह देंगे कि तुरंत हमारे विशेषज्ञ डॉक्टरों से मिलें।

फेफड़ों में संक्रमण क्यों होता है?

फेफड़ों में संक्रमण को अंग्रेजी भाषा में लंग इंफेक्शन कहा जाता है। हाल के समय में वायु प्रदूषण लंग इन्फेक्शन का मुख्य कारण बन गया है, जिसे निमोनिया भी कहा जाता है। उच्च वायु प्रदूषण में अस्थमा या सीओपीडी के रोगियों को अधिक सावधान रहने की आवश्यकता होती है। 

ठंड के दौरान कोलकाता का मौसम थोड़ा ज्यादा गंभीर हो जाता है। इस दौरान हवा नहीं चलती है और ठंड भी बहुत ज्यादा होती है, जिससे मौसम में स्मॉग का कोहराम होता है। इस समय बड़ी संख्या में बच्चे 'हाइपर-एक्टिव एयरवेज डिजीज' या ब्रोन्कियल ट्यूब की सूजन से प्रभावित होते हैं, जिससे अस्थमा या सांस लेने जैसी गंभीर समस्या होती है। यहां तक की पिछले 3-4 वर्षों में भी ऐसा देखा गया है कि जिन्हें अस्थमा की कभी शिकायत नहीं थी, वह भी अब इस मौसम में अस्थमा जैसे गंभीर रोग से पीड़ित होने लगे हैं। नवंबर से फरवरी का समय बहुत ज्यादा संवेदनशील होता है। स्थिति की गंभीरता को समझ कर जल्द से जल्द हमारे पल्मोनोलॉजिस्ट से संपर्क करें। यह एक चिकित्सा आवश्यक स्थिति है और इसके लक्षण दिखने पर तुरंत इलाज की आवश्यकता होती है। 

फेफड़ों में इन्फेक्शन के लक्षण

श्वसन संक्रमण होने पर निम्नलिखित लक्षण उत्पन्न होते हैं -

  • लगातार खांसी आना और उसके साथ ब्लड आना
  • सांस लेने में समस्या के साथ सीने में दर्द
  • मांसपेशियों और गले में दर्द 
  • उल्टी-दस्त के साथ जी मिचलाना
  • घबराहट होना
  • थोड़े काम या सामान्य क्रिया से जल्द थकान हो जाना 
  • हृदय गति का बढ़ना

फेफड़ों में इन्फेक्शन कैसे होता है?

फेफड़ों में संक्रमण के पीछे दो कारण है - बैक्टीरिया और वायरस। जब हवा प्रदूषित होती है और रोगी सांस लेता है संक्रमण वाले रोगाणु फेफड़ों में चले जाते हैं। यह तत्व फेफड़ों में मौजूद छोटे-छोटे थैलियों में जमा हो जाते हैं। धीरे-धीरे यह संक्रमण हमारे शरीर का प्रयोग करके बढ़ने लगते हैं, जो अंततः संक्रमण का कारण बन जाते हैं। 

इसके साथ-साथ हमें यह समझना होगा कि फेफड़ों का संक्रमण एक संक्रामक रोग है। अर्थात, यह व्यक्ति के खांसने, बोलने, छींकने आदि से भी दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है। इसके अतिरिक्त कुछ अन्य कारण भी हैं जो फेफड़ों में संक्रमण का कारण साबित हो सकते हैं - 

  • धूम्रपान
  • पैसिव स्मोकिंग
  • शरीर के रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर करने वाले रोग
  • वृद्धावस्था

फैक्ट्रियों में काम करने वाले मजदूर भी फेफड़ों में संक्रमण से पीड़ित होते हैं। इसके अतिरिक्त हाल-फिलहाल में वायु प्रदूषण के कारण भी फेफड़े में संक्रमण के मामले बढ़ने लगे हैं। वायु प्रदूषण में कुछ प्रदूषक तत्व होते हैं, जो मुख्य रूप से फेफड़ों के संक्रमण का मुख्य कारण साबित होते हैं। 

प्रदूषकों के प्रकार और वह फेफड़ों को कैसे प्रभावित करते हैं?

मुख्यतः प्रदूषक चार प्रकार के होते हैं - पार्टिकुलेट मैटर, नाइट्रोजन डाइऑक्साइड, ओजोन और सल्फर डाइऑक्साइड। विशेष रूप से इन तत्वों के कारण हमारे फेफड़ों में समस्या होती है। 

  • पार्टिकुलेट मैटर (पीएम): पार्टिकुलेट मैटर (पीएम) हवा में ठोस या तरल पदार्थों के छोटे टुकड़ों से बना होता है जैसे हवा में धूल, गंदगी और धुआं।
  • नाइट्रोजन डाइऑक्साइड (NO2): नाइट्रोजन डाइऑक्साइड हवा में एक भूरे रंग की जहरीली गैस है। नाइट्रोजन डाइऑक्साइड का स्तर व्यस्त सड़कों, पुराने वाहन, कारखानों, निर्माण स्थलों, कोयला और तेल खदान जैसे स्थान पर अधिक होता है।
  • ओजोन (O3): ओजोन का उत्पादन तब होता है, जब सूर्य का प्रकाश नाइट्रोजन डाइऑक्साइड, पार्टिकुलेट मैटर और अन्य गैसों के साथ मिलता है।
  • सल्फर डाइऑक्साइड (SO2): सल्फर डाइऑक्साइड (SO2) मुख्य रूप से कोयला और तेल जैसे ईंधन जलाने से उत्पन्न होता है। कारखाने, पेट्रोल रिफाइनरियों और निर्माण स्थल से इस प्रकार का प्रदूषक निकलता है। ठंड में सबसे ज्यादा स्मॉग परेशान करता है, जो सल्फर डाइऑक्साइड से ही बनता है।

फेफड़ों में इन्फेक्शन कैसे ठीक करें

फेफड़ों में इन्फेक्शन के इलाज के लिए सबसे पहले आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। लेकिन जब तक आप डॉक्टर के पास नहीं जाते हैं, तब तक हम आपको सलाह देंगे कि आप निम्नलिखित निर्देशों का पालन करें। इससे आपको बहुत लाभ होगा। 

  • स्वस्थ आहार का सेवन करें। 
  • धूम्रपान बंद करें
  • अपने दैनिक आहार में तरल पदार्थ का सेवन बढ़ाएं। 
  • रोजाना कम से कम 30 मिनट की वॉक करें। 
  • साफ पानी पिएं।
  • तनाव से बचें
  • पर्याप्त मात्रा में नींद लें
  • प्रदूषण से बचने का प्रयास करें
  • अपने आसपास स्वच्छता बनाए रखें

फेफड़ों में इन्फेक्शन का इलाज

फेफड़ों में संक्रमण के इलाज के लिए डॉक्टर अक्सर एंटी-अस्थमा दवाएं देते हैं। इन दवाएं का मुख्य कार्य आपकी श्वसन प्रणाली को बेहतर बनाना है और फेफड़ों में जमे फंगस और बलगम को बाहर निकालने में मदद करना है। हालांकि यह दवाएं बहुत प्रभावी है और तेजी से असर दिखाती हैं, लेकिन फिर भी हमारे डॉक्टर हमेशा कहते हैं कि किसी को भी बिना प्रिस्क्रिप्शन के इन दवाओं को नहीं लेना चाहिए। इससे स्थिति और गंभीर हो सकती है। 

जब आप फेफड़ों में समस्या के लिए डॉक्टर के पास जाते हैं, तो वह सबसे पहले आपकी स्थिति का विश्लेषण करते हैं और फिर वह आपके फेफड़ों की स्थिति को देख कर दवाओं का सुझाव देते हैं। फंगस के संक्रमण को रोकने के लिए डॉक्टर दवाओं का सुझाव दे सकते हैं। वहीं कुछ गंभीर मामलों में सर्जरी की आवश्यकता होती है। सर्जरी में क्षतिग्रस्त भाग को निकाल दिया जाता है, क्योंकि इससे अन्य स्वास्थ्य समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। 

फेफड़ों में संक्रमण से अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

 

श्वसन दर को कैसे मापा जाता है?

एक मिनट के दौरान जितनी बार सांस ली जाती है, उसे श्वसन दर कहते हैं। श्वसन दर को मापने के लिए, व्यक्ति को रेस्टिंग पोजीशन पर रहना चाहिए। एक मिनट के दौरान व्यक्ति ने कितनी बार सांस ली है, उसी से ही श्वसन दर को मापा जाता है। सामान्य श्वसन दर वयस्कों में 12 से 20 प्रति मिनट होती है। इससे ऊपर का दर असामान्य की श्रेणी में आता है। 

क्या वायु प्रदूषण से सांस संबंधी बीमारियां होती हैं?

हाँ, वायु प्रदूषण से सांस संबंधी बीमारियां होती हैं। बीते कुछ वर्षों में वायु प्रदूषण के कारण सांस संबंधी मामलों की संख्या में वृद्धि हुई है। वायु प्रदूषण से होने वाली सांस संबंधी बीमारियों में अस्थमा, ब्रोंकाइटिस और फेफड़ों का कैंसर शामिल है।

क्या फेफड़ों की क्षति का इलाज संभव है?

फेफड़ों की क्षति का इलाज संभव है, लेकिन इसका जवाब क्षति की सीमा पर भी निर्भर करता है। यदि फेफड़ों की क्षति ज्यादा गंभीर नहीं है, तो इलाज दवाओं से संभव है। यदि स्थिति अधिक गंभीर है, तो लंग ट्रांसप्लांट की आवश्यकता पड़ती है। 

क्या फेफड़ों के टीबी का इलाज संभव है?

हां, फेफड़ों के टीबी का इलाज संभव है। फेफड़ों के टीबी का इलाज एंटीबायोटिक दवाओं से किया जाता है। यदि टीबी का इलाज समय पर किया जाए, तो यह पूरी तरह से ठीक किया जा सकता है। इसके लिए तुरंत डॉक्टर से मिलें और इलाज की तरफ अपना पहला कदम उठाए। 

कौन सी बीमारी श्वसन तंत्र से संबंधित है?

श्वसन तंत्र से संबंधित कई बीमारियां हैं। चलिए उन्हीं में से कुछ प्रमुख बीमारियां के बारे में जानते हैं - 

  • अस्थमा
  • ब्रोंकाइटिस
  • फेफड़ों का कैंसर
  • निमोनिया
  • श्वसन संबंधी संक्रमण
  • टीबी
  • हड्डियों का क्षय रोग (बोन टीबी)