Enquire NowCall Back Whatsapp Lab report/login
लिकोरिया का कारण, लक्षण और इलाज (Leucorrhoea)

Home > Blogs > लिकोरिया का कारण, लक्षण और इलाज (Leucorrhoea)

लिकोरिया का कारण, लक्षण और इलाज (Leucorrhoea)

Obstetrics and Gynaecology | by Dr. Parnamita Bhattacharya | Published on 17/02/2023



यौन और प्रजनन स्वास्थ्य में लापरवाही बरतने पर महिलाओं को कई तरह की गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ता है, लिकोरिया भी उन्हीं में से एक है। आइए, लिकोरिया के बारे में विस्तार से जानने की कोशिश करते हैं।

लिकोरिया क्या है? (Leucorrhoea kya hai)

लिकोरिया को ल्यूकेरिया भी लिखा जाता है। इस दौरान महिला की योनि से सफ़ेद, पीला या हल्का नीला या लाल रंग का चिपचिपा तरल पदार्थ डिस्चार्ज होता है यानी निकलता है। लिकोरिया के कारण महिला के शरीर में इंफेक्शन होने का खतरा होता है। अधिकतर मामलों में यह शादी-शुदा महिलाओं में देखने को मिलता है।

हालाँकि, यह किसी भी उम्र की महिलाओं में हो सकता है। आमतौर पर लिकोरिया पीरियड्स से पहले या बाद में 1-2 दिनों तक रहता है। लिकोरिया के दौरान होने वाले तरल पदार्थ का रंग, उसकी मात्रा, स्थिति और अवधि हर महिला में अलग-अलग हो सकती है।

लिकोरिया बीमारी के क्या लक्षण है? (Symptoms of White Discharge in Hindi)

लिकोरिया का सबसे बड़ा लक्षण है योनि से सफ़ेद, पीला या हल्का नीला या लाल रंग का चिपचिपा और बदबूदार तरल पदार्थ का स्राव होना। इसके अलावा, लिकोरिया होने पर एक महिला खुद में अनेक लक्षणों को अनुभव कर सकती है जैसे कि

  • योनि में खुजली और जलन होना
  • शरीर में भारीपन महसूस करना
  • भूख न लगना और चक्कर आना
  • हाथ, पैर, कमर और पेडू में दर्द होना
  • पिंडलियों यानी काल्व्स में खिंचाव होना
  • जी मिचलिना और कभी-कभी उल्टी होना
  • बार-बार पेशाब करने की आवश्यकता होना
  • शौच साफ़ नहीं होना और पेट में भारीपन होना
  • मन उदास होना और चिड़चिड़ापन महसूस करना
  • कमजोरी महसूस करना और आँखों के सामने अँधेरा छाना

अगर आप खुद में निम्न लक्षणों को अनुभव करती हैं तो आपको जल्द से जल्द विशेषज्ञ डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए

लिकोरिया क्यों होता है? (Leucorrhoea kyo hota hai)

लिकोरिया अनेक कारणों से होता है जिसमें मुख्य रूप से योनि की स्वच्छता का ख्याल नहीं रखना, शरीर में खून की कमी होना, अत्याधिक हस्तमैथुन करना, गलत तरह से शारीरिक संबंध बनाना, अत्याधिक उपवास रखना, अत्याधिक शारीरिक काम करना, रोगग्रस्त पुरुष के साथ यौन संबंध बनाना, योनि में बैक्‍टीरिया की मौजूदगी होना, योनि या गर्भाशय के मुंह पर छाले आना या बार-बार गर्भपात होना या कराना आदि।

इन सबके अलावा, अन्य कारणों से भी महिला को लिकोरिया की समस्या पैदा हो सकती है जैसे कि:

  • गर्भवती होना 
  • यूरिन इंफेक्शन होना
  • मन में हमेशा कामुक विचार होना 
  • रोगप्रतिरोधक क्षमता कमजोर होना
  • शरीर में अच्छे बैक्टीरिया की कमी होना
  • शरीर में पीएच के स्तर में गड़बड़ी होना
  • डायबिटीज के कारण योनि में फंगल यीस्ट इंफेक्शन होना
  • अत्याधिक तैलीय, तीखे और मसालेदार चीजों का सेवन करना

अगर एक महिला ऊपर दिए गए कारणों पर ध्यान देकर कुछ सावधानियां बरतती है तो उसे लिकोरिया होने का खतरा कम या ख़त्म हो सकता है।

लिकोरिया का जांच

लिकोरिया का निदान करने के लिए लिए डॉक्टर रोगाणुओं और डब्ल्यूबीसी यानी व्हाइट ब्लड काउंट करने के लिए योनि से डिस्चार्ज होने वाले तरल पदार्थ की जाँच करते हैं। माइक्रोस्कोप के तहत 10 से अधिक डब्ल्यूबीसी उसी के निदान में सहायता करते हैं।

लिकोरिया का इलाज (Leucorrhoea ka ilaaj)

लिकोरिया के दौरान योनि से डिस्चार्ज होने वाले तरल पदार्थ का प्रकार, रंग, अवधि, गंभीरता और कारण को ध्यान में रखते हुए डॉक्टर इसके इलाज के माध्यम का चयन करते हैं। आमतौर पर लिकोरिया के शुरुआती इलाज के तौर पर डॉक्टर महिला को जीवनशैली में सकारात्मक बदलाव लाने का सुखाव देते हैं। लेकिन जब इन सबसे कोई फायदा नहीं होता है तो कुछ ख़ास सप्लीमेंट्स और दवाएं निर्धारित करते हैं।

क्या ल्यूकोरिया को रोका जा सकता है?

कुछ बातों पर ध्यान देकर लिकोरिया से बचाव किया जा सकता है। इसमें मुख्य रूप से निम्न शामिल हो सकते हैं: 

  • स्वस्थ आहार लेना
  • यौन और प्रजनन स्वास्थ्य का ख्याल रखना
  • गर्भ निरोधकों का उपयोग करते समय सावधानी बरतना

अगर आप योनि स्राव में कोई बदलाव देखती हैं तो जितनी जल्दी हो सके अपने चिकित्सक से परामर्श करें। ल्यूकोरिया एक सामान्य स्थिति है, लेकिन अगर इसे अनुपचारित छोड़ दिया जाए तो यह असुविधाजनक होने के साथ-साथ स्वास्थ्य के लिए खतरनाक भी हो सकता है। इसलिए, जितनी जल्दी हो सके डॉक्टर या चिकित्सक से परामर्श करना महत्वपूर्ण है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

 

लिकोरिया जड़ से खत्म कैसे करें?

लिकोरिया को जड़ से खत्म करने के लिए आप अपनी डाइट और जीवनशैली में बदलाव ला सकती हैं। अपनी डाइट में सब्जियों और फलों को शामिल करें, यौन और प्रजनन स्वास्थ्य का ख़ास ध्यान रखें, नियमित रूप से व्यायाम और मेडिटेशन करें और इसका लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर से परामर्श करें।

लिकोरिया में खान-पान कैसा होना चाहिए?

लिकोरिया होने पर विशेषज्ञ डॉक्टर महिला को अपनी डाइट में अधिक से अधिक हरी पत्तेदार सब्जियों और ताजे फलों को शामिल करने का सुझाव देते हैं। साथ ही, इस स्थिति में अत्याधिक तैलीय और मसालेदार चीजों के सेवन से भी बचना चाहिए। जंक फूड्स, कोल्ड ड्रिंक, शराब या सिगरेट का सेवन लिकोरिया के लक्षणों को गंभीर बना सकता है, इसलिए इन सबसे भी बचने का सुझाव दिया जाता है।