Enquire NowCall Back Whatsapp Lab report/login
क्या है डायबिटीज, जानिए इसके लक्षण और बचाव के उपाय सहित पूरी जानकारी

Home > Blogs > क्या है डायबिटीज, जानिए इसके लक्षण और बचाव के उपाय सहित पूरी जानकारी

क्या है डायबिटीज, जानिए इसके लक्षण और बचाव के उपाय सहित पूरी जानकारी

Diabetes and Endocrine Sciences | Posted on 04/17/2023 by Dr. Ankur Gahlot



खुशी के हर पल में मिठाई का होना हमारी परंपरा का एक अभिन्न भाग रहा है। दिवाली हो या होली, लोग मीठे से बिल्कुल भी परहेज नहीं करते हैं। लेकिन आज के भागदौड़ भरे जीवन में यह मीठा धीरे-धीरे कई बीमारियों का कारण बन रहा है, जिनमें से सबसे प्रमुख है मधुमेह या डायबिटीज। यह एक ऐसी बीमारी है, जो एक बार हो जाए तो जीवन भर साथ रहती है। कोई मित्र या रिश्ता जीवन भर साथ रहे या न रहे, यह रोग एक व्यक्ति को जीवन भर परेशान कर सकता है। 

डायबिटीज क्या है?

चलिए आसान भाषा में समझते हैं कि डायबिटीज क्या है और इसके कारण कौन सी समस्याएं उत्पन्न होती हैं। पहले समझते हैं कि हमारा पाचन तंत्र कैसे कार्य करता है। हम जो भी खाना खाते हैं, वह अंदर जाकर टूटता है और ग्लूकोज और शर्करा का निर्माण करता है। जैसे ही यह शर्करा रक्त में प्रवेश करता है, पैंक्रियास एक हार्मोन (इंसुलिन) छोड़ता है। इंसुलिन, ग्लूकोज को रक्त से शरीर की कोशिकाओं तक पहुंचाता है, जो ऊर्जा प्रदान करते हैं। यह एक अद्भुत प्रक्रिया है जो हर बार भोजन करने के बाद होता है।

लेकिन, जब पैंक्रियास पर्याप्त इंसुलिन का निर्माण नहीं कर पाता है या इंसुलिन ठीक से काम नहीं करता है तो ग्लूकोज रक्त में जमा होने लगता है। इस स्थिति को डायबिटीज कहा जाता है।

अनियंत्रित मधुमेह हृदय रोग, स्ट्रोक, नर्व डैमेज, गुर्दे की बीमारी और अंधापन जैसी गंभीर समस्याओं को जन्म दे सकता है। इसलिए, अपने मधुमेह को प्रबंधित करने और अपने रक्त शर्करा स्तर को नियंत्रण में रखने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप अपने डॉक्टर के साथ परामर्श करें या हमारे डॉक्टरों से बात करें।

डायबिटीज के प्रकार

डायबिटीज के दो मुख्य प्रकार होते हैं। चलिए दोनों को एक-एक करके समझते हैं - 

टाइप 1 मधुमेह – इंसुलिन डिपेंडेंट डायबिटीज

डायबिटीज के सभी प्रकारों में टाइप 1 डायबिटीज एक साधारण प्रकार है। यह स्थिति तब उत्पन्न होती है जब पैंक्रियाज इंसुलिन का उत्पादन नहीं कर पाता है। डायबिटीज का यह प्रकार जेनेटिक है, जिसकी पहचान बचपन में ही हो जाती है और बचपन से ही इसका बचाव संभव होता है। सामान्यतः इस प्रकार के मधुमेह में कम उम्र के लोगों को इंसुलिन की जरूरत पड़ती है। फिलहाल इस स्थिति का कोई उपचार उपलब्ध नहीं है, लेकिन इसको सही समय पर पहचान कर इस स्थिति का इलाज संभव है। 

टाइप 2 मधुमेह – नॉन-इंसुलिन डिपेंडेंट डायबिटीज 

टाइप 2 डायबिटीज को सबसे आम प्रकार का डायबिटीज माना जाता है। मुख्यतः यह डायबिटीज किशोरों को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है। इस प्रकार के डायबिटीज में पैंक्रियाज पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन का निर्माण नहीं कर पाता है, जिसके कारण रक्त में ग्लूगोज की मात्रा बढ़ती जाती है। मुख्य रूप से इस रोग के कारण मोटापा और अधिक मीठा भोजन खाना है। 

इसके अतिरिक्त अन्य दो और प्रकार के डायबिटीज होते हैं, जिनके बारे में नीचे बताया गया है - 

  • गर्भावधि मधुमेह या गर्भावस्था मधुमेह: गर्भावस्था के दौरान, कई महिलाएं के शरीर में रक्त शर्करा स्तर बढ़ जाता है। यह इसलिए होता है, क्योंकि उस दौरान महिला का शरीर इंसुलिन के प्रति संवेदनशील नहीं होता है।
  • प्रीडायबिटीज: इसे आप टाइप 2 डायबिटीज से पहले वाला स्टेज मान सकते हैं। इसमें रक्त में ग्लूकोज का स्तर बॉर्डर लाइन पर होता है, जिसके इलाज के लिए जीवनशैली में बदलाव करने को कहा जा सकता है। 

डायबिटीज के लक्षण और उपाय?

मधुमेह के लक्षण मधुमेह के प्रकार के आधार पर भिन्न होते हैं, लेकिन कुछ सामान्य लक्षण होते हैं जैसे - 

  • प्यास और भूख में अचानक वृद्धि होना
  • ज़्यादा यूरिनेशन होना
  • थकान
  • धुंधली दृष्टि
  • घाव का धीरे-धीरे भरना 
  • हाथ और पैर में झुनझुनी या सुन्न होना
  • यीस्ट संक्रमण या यूरिनरी ट्रैक्ट संक्रमण
  • बिना कारण वजन घटना (टाइप 1 मधुमेह में अधिक सामान्य)

मधुमेह का इलाज कई कारकों पर आधारित होता है, जैसे मधुमेह के प्रकार और आयु, समग्र स्वास्थ्य और रक्त शर्करा के स्तर। डायबिटीज के कुछ सामान्य उपचार इस प्रकार है - 

  • दवाएं: मधुमेह के प्रकार के आधार पर, ब्लड ग्लूकोज के स्तर को प्रबंधित करने के लिए दवाएं जैसे इंसुलिन, मेटफॉर्मिन, इत्यादि का सुझाव दिया जा सकता है। 
  • जीवनशैली में बदलाव: स्वस्थ जीवनशैली में बदलाव करना जैसे स्वस्थ आहार का पालन, नियमित व्यायाम करना और जरूरत पड़ने पर वजन कम करना रक्त शर्करा स्तर को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है।
  • रक्त शर्करा की निगरानी: रक्त शर्करा स्तर की नियमित निगरानी पैटर्न की पहचान करने और उपचार के निर्णयों को निर्देशित करने में मदद कर सकती हैं।
  • शिक्षा और समर्थन: मधुमेह की जानकारी रख कर तथा एक पंजीकृत डाइटिशियन और डॉक्टर की मदद से स्व-देखभाल और प्रबंधन कर सकते हैं। इससे रोगी को बहुत लाभ मिलेगा।

डायबिटीज में क्या खाना चाहिए?

मधुमेह के प्रबंधन के लिए स्वस्थ और संतुलित आहार बहुत महत्वपूर्ण है। मधुमेह में स्वस्थ भोजन के लिए कुछ सामान्य दिशा-निर्देश दिए जाते हैं जैसे - 

  • संपूर्ण खाद्य पदार्थों पर ध्यान दें: साबुत अनाज, ताजे फल और सब्जियां, लीन प्रोटीन और स्वस्थ फैट चुनें।
  • कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स (जीआई) वाले खाद्य पदार्थ चुनें: कम जीआई मूल्य वाले खाद्य पदार्थों से रक्त शर्करा के स्तर में वृद्धि होने की संभावना कम होती है। उदाहरण के तौर पर देखें तो गैर-स्टार्च वाली सब्जियां, साबुत अनाज, नट्स और फलियां शामिल हैं।
  • प्रोसेस्ड फूड को सीमित करें: प्रोसेस्ड फूड को सीमित करने से रक्त शर्करा स्तर को नियंत्रित करने में बहुत मदद मिलती है। 
  • आहार में नियंत्रण: किसी भी भोजन का बहुत अधिक सेवन करने से रक्त शर्करा स्तर बढ़ सकता है। प्रयास करें कि हर कुछ समय में थोड़ा-थोड़ा खाएं।
  • कार्बोहाइड्रेट: कार्बोहाइड्रेट रक्त शर्करा के स्तर पर बढ़ा सकता है, इसलिए कार्बोहाइड्रेट के स्वस्थ स्रोत जैसे साबुत अनाज, फलों और सब्जियों को चुनें और कितना भोजन आप कर रहे हैं, इसकी निगरानी करें। 
  • हाइड्रेटेड रहें: खूब पानी पीने से रक्त शर्करा के स्तर को स्थिर रखने और डिहाइड्रेशन को रोकने में मदद मिलती है।

सामान्य तौर पर पूछे जाने वाले प्रश्न

डायबिटीज में कौन-कौन से फल खाने चाहिए ?

कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले फल, जैसे जामुन, चेरी, सेब और नाशपाती, आमतौर पर मधुमेह वाले लोगों के लिए अनुशंसित होते हैं। हालांकि, एक बात पर विचार अवश्य करें कि कितना आपको खाना चाहिए।

शुगर और डायबिटीज में क्या अंतर है?

रक्त में मौजूद ग्लूकोज (Glucose) की मात्रा को शुगर कहते हैं। यह शरीर के लिए ऊर्जा का मुख्य स्रोत होता है, वहीं दूसरी तरफ मधुमेह एक ऐसी स्थिति है, जिसमें रक्त में शुगर की मात्रा लगातार अधिक रहती है।

डायबिटीज में क्या नहीं खाना चाहिए?

मधुमेह वाले लोगों को शक्कर और प्रोसेस्ड फूड, ट्रांस फैट, उच्च सोडियम खाद्य पदार्थ और अत्यधिक शराब की खपत को सीमित करना चाहिए या उन्हें टालना चाहिए।

डायबिटीज होने के कारण क्या है?

मधुमेह होने के अलग-अलग कारण होते हैं। टाइप 1 मधुमेह में, शरीर का इम्यून सिस्टम पैंक्रियाज को इंसुलिन के निर्माण से रोक देता है। वहीं टाइप 2 डायबिटीज में शरीर इंसुलिन के प्रभावों के प्रति प्रतिरोधी हो जाता है, और पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं कर पाता है। इसके अतिरिक्त आनुवांशिकी, मोटापा, एक गतिहीन जीवन शैली और कुछ चिकित्सीय स्थितियां या दवाएं इस रोग का मुख्य कारण है। 

डायबिटीज में क्या होता है?

मधुमेह में शरीर रक्त शर्करा के स्तर को ठीक से नियंत्रित करने में असमर्थ होता है, या तो यह पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं करता है या यह इंसुलिन के लिए प्रतिरोधी हो जाता है। अनियंत्रित रहने पर यह कई समस्याओं को जन्म दे सकता है।

क्या डायबिटीज में दही खा सकते हैं?

हां, आप सादी दही खा सकते हैं। दही में चीनी न डालें, क्योंकि इससे दुष्प्रभाव देखने को मिल सकता है। 

डायबिटीज में दर्द कहां-कहां होता है?

डायबिटीज में दर्द शरीर के कई हिस्सों में हो सकता है, जिनमें से डायबिटीज में पैर दर्द होना एक आम समस्या है। इसके अतिरिक्त डायबिटीज के कारण हाथ में भी दर्द होता है। दर्द के साथ रोगी को शरीर के विभिन्न अंगों में झुनझुनी और जोड़ों में दर्द और ऐंठन का सामना करना पड़ता है।