Enquire now
Enquire NowCall Back Whatsapp Lab report/login
जयपुर में घुटने का रिप्लेसमेंट

Home > Blogs > जयपुर में घुटने का रिप्लेसमेंट

जयपुर में घुटने का रिप्लेसमेंट

Orthopaedics & Joint Replacement | Posted on 04/01/2024 by Dr. Lalit Modi



घुटने के दर्द के साथ जीना सबसे कष्टदायक स्थिति है। इसके साथ बैठना, खड़ा होना या चलना इस दुनिया में सबसे ज्यादा कष्टदायक सिद्ध हो सकता है। यह सारी गतिविधियां आपके दैनिक जीवन का अभिन्न भाग है। 

सबसे पहले आपको यह समझना होगा कि घुटने का दर्द कई समस्याओं का संकेत देता है, जैसे ऑस्टियोआर्थराइटिस, या रुमेटाइड आर्थराइटिस। यदि आपके घुटनों में दर्द है और मालिश और अन्य फिजिकल थेरेपी के साथ-साथ दवाएं और सहायक उपकरण से स्थिति में सुधार नहीं हो रहा है, तो घुटने के रिप्लेसमेंट का सुझाव डॉक्टरों के द्वारा दिया जा सकता है।

चलिए इस ब्लॉग से पहले समझते हैं कि घुटने में रिप्लेसमेंट सर्जरी क्या है और जयपुर में जयपुर में घुटने के रिप्लेसमेंट के लिए सबसे अच्छा अस्पताल कौन सा है। इस ब्लॉग में मौजूद सभी जानकारी एक सामान्य जानकारी है। घुटने में असहनीय दर्द होने पर जयपुर में तुरंत हमारे हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉक्टरों से संपर्क करें और इलाज के विकल्पों पर विचार करें।

नी-रिप्लेसमेंट सर्जरी क्या है?

सुनने में कितना अजीब लगता है कि सर्जन ऑपरेशन के दौरान पूरे घुटने को जोड़ सहित बदल देते हैं। लेकिन वास्तव में इस सर्जरी की सहायता से दर्द से आराम तो मिलता ही है, लेकिन इसके साथ-साथ घुटने के सारे मूमेंट फिर से बहाल हो जाते हैं। 

घुटने की रिप्लेसमेंट सर्जरी को चिकित्सा भाषा में आर्थ्रोप्लास्टी भी कहा जाता है। नी-रिप्लेसमेंट या घुटने का रिप्लेसमेंट एक सर्जिकल प्रक्रिया है, जिसमें सर्जन घुटने के क्षतिग्रस्त भाग को बदल देते हैं। मुख्यतः घुटने का रिप्लेसमेंट दो प्रकार के होते हैं - टोटल नी रिप्लेसमेंट या पार्शियल नी रिप्लेसमेंट। टोटल नी रिप्लेसमेंट में पूरे घुटने को ही बदल दिया जाता है और उसकी जगह एक कृत्रिम अंग को लगाया जाता है, वहीं पार्शियल नी रिप्लेसमेंट में घुटने के क्षतिग्रस्त या घिसे हुए भाग को ही निकाला जाता है। किस तकनीक का प्रयोग होगा, इसका निर्णय रोगी की स्थिति के अवलोकन के बाद ही होगा।

घुटने के रिप्लेसमेंट की जरूरत कब होती है?

घुटने के रिप्लेसमेंट सर्जरी की आवश्यकता कुछ रोग के इलाज के लिए किया जाता है। डॉक्टर निम्न स्वास्थ्य स्थिति के इलाज के लिए इस सर्जरी का सुझाव देते हैं - 

  • रूमेटाइड अर्थराइटिस
  • ऑस्टियोआर्थराइटिस (जोड़ के भीतर उपास्थि टूटना)
  • घुटने की जोड़ की हड्डी में ट्यूमर का होना 
  • घुटने के जोड़ में चोट या फ्रैक्चर होना 

घुटने का ऑपरेशन कैसे किया जाता है?

घुटने के ऑपरेशन से पहले डॉक्टर कुछ जांच करते हैं। जांच की सहायता से डॉक्टर इस बात की पुष्टि कर पाते हैं कि घुटने की वर्तमान स्थिति क्या है और किस भाग का ऑपरेशन किया जाना है। हड्डी रोग विशेषज्ञ शारीरिक और मानसिक जांच करते हैं, जिससे इलाज की पृष्ठभूमि बनती है। इलाज से पहले निम्न जांच परीक्षण किए जाते हैं -

  • एक्स-रे
  • एमआरआई 
  • इकोकार्डियोग्राम टेस्ट 

इन सभी जांच के परिणाम के बाद ही घुटने के इलाज की प्रक्रिया शुरू हो जाती है। ऑपरेशन से पहले भी कुछ लैब टेस्ट होते हैं, जिससे रोगी के वर्तमान स्वास्थ्य के बारे में पता चलता है। इन लैब टेस्ट का मुख्य कार्य सभी जटिलताओं से रोगी को बचाना है।

घुटने बदलने का ऑपरेशन मुख्य रूप से दो तरह से किया जाता है। एक है एडवांस आर्थ्रोस्कोपिक नी रिप्लेसमेंट सर्जरी और दूसरा है ट्रेडिशनल ओपन नी-रिप्लेसमेंट सर्जरी है। आधुनिक आर्थ्रोस्कोपिक नी रिप्लेसमेंट सर्जरी में हल्का कट लगाया जाता है, जिसके कारण रक्त हानि कम होती है और रोगी जल्द रिकवर होता है। वहीं ओपन सर्जरी इससे बिल्कुल उलट है। इसमें रक्त हानि की संभावना भी अधिक होती है। रुक्मणी बिड़ला अस्पताल अपने आधुनिक और मिनिमल इन्वेसिव इलाज के लिए जाना जाता है।

घुटना बदलने के बाद क्या न करें?

घुटने बदलने के ऑपरेशन के बाद रोगी को कुछ दिशा-निर्देशों का पालन सही से करना चाहिए। सामान्यतः निम्न निर्देशों का पालन कर रोगी इलाज के बाद अपना अच्छे से ख्याल रख सकते हैं -

  • अपने पैरों को क्रॉस करके न बैठें।
  • घुटने को मोड़ने से बचें।
  • घुटने पर अतिरिक्त भार डालने से समस्या उत्पन्न हो सकती है। 
  • सोते समय घुटने के नीचे तकिया लगाए, जिससे अच्छे से सपोर्ट मिले। 
  • प्रयास करें कि ऑपरेशन के 6-8 सप्ताह तक ड्राइविंग से दूरी बनाएं।
  • अधिक ताकत लगाने वाले व्यायाम से भी दूरी बनााएं। 
  • कूदना, जिमनास्टिक, फुटबॉल और क्रिकेट इत्यादि गतिविधियां को करने से बचें।

निष्कर्ष

घुटने का रिप्लेसमेंट एक प्रभावी सर्जरी है, जो घुटने के गंभीर दर्द और विकलांगता से पीड़ित लोगों को राहत प्रदान करता है। जयपुर में कई अच्छे अस्पताल और सर्जन हैं, जो इस सर्जरी को करते हैं। यदि आप घुटने के रिप्लेसमेंट पर विचार कर रहे हैं, तो आप हमारे डॉक्टर से परामर्श करें और अपनी आवश्यकताओं के लिए सबसे अच्छा विकल्प चुनें।

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

 

जयपुर में घुटने के रिप्लेसमेंट के लिए कौन सा अस्पताल सबसे अच्छा है?

जयपुर में घुटने के रिप्लेसमेंट के लिए आप हमारे डॉक्टरों से परामर्श ले सकते हैं। वह रोगी के व्यक्तिगत स्वास्थ्य, आवश्यकताओं और प्राथमिकताओं के आधार पर ही इलाज की योजना बनाते हैं।

घुटने के रिप्लेसमेंट की लागत कितनी है?

जयपुर में घुटने के रिप्लेसमेंट की लागत अस्पताल, सर्जन, सर्जरी के प्रकार और अन्य कारकों के आधार पर भिन्न होता है। नी रिप्लेसमेंट सर्जरी की कीमत जानने के लिए आप हमसे संपर्क कर सकते हैं।

घुटने के रिप्लेसमेंट के बाद रिकवरी का समय कितना होता है?

रिकवरी का समय रोगी की उम्र, स्वास्थ्य, सर्जरी के प्रकार और अन्य कारकों पर निर्भर करता है। आमतौर पर, रोगी 6-8 सप्ताह के भीतर सामान्य गतिविधियां कर सकता है।

घुटने के रिप्लेसमेंट के बाद किन गतिविधियों से बचना चाहिए?

घुटने के रिप्लेसमेंट के बाद, आपको कुछ गतिविधियों से बचना चाहिए, जैसे:

  • दौड़ना
  • कूदना
  • भारी वस्तुओं को उठाना
  • घुटने को मोड़ना
  • क्रॉस-लेग्ड बैठना

क्या घुटने के रिप्लेसमेंट के बाद जीवन सामान्य हो सकता है?

जी हां, घुटने के रिप्लेसमेंट के बाद अधिकांश रोगी सामान्य जीवन जी सकते हैं। सर्जरी दर्द को कम करने, गतिशीलता में सुधार करने और जीवन की गुणवत्ता को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है।