Enquire NowCall Back Whatsapp Lab report/login
रोबोटिक यूरोलॉजी सर्जरी: मिथक बनाम तथ्य

Home > Blogs > रोबोटिक यूरोलॉजी सर्जरी: मिथक बनाम तथ्य

रोबोटिक यूरोलॉजी सर्जरी: मिथक बनाम तथ्य

Robotic Surgery | Posted on 11/01/2023 by RBH



मेडिकल क्षेत्र में नई तकनीक का आधुनिकीकरण रोगियों के लिए उपचार की संभावनाओं को बढ़ा रहा है। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और रोबोट सर्जरी जैसी तकनीकों का उपयोग करके, डॉक्टर अब जटिल सर्जरी आसानी से बिना किसी जटिलता के कर सकते हैं। रोबोटिक्स का उपयोग सर्जरी को अधिक सटीक और सुरक्षित बनाने के लिए किया जा रहा है। रोबोटिक सर्जरी में सर्जन एक सीमित स्थान पर बैठकर अधिक सटीकता के साथ प्रभावित क्षेत्र की सर्जरी कर सकते हैं। ऐसी ही एक सर्जरी प्रणाली है दा विंची रोबोटिक सर्जरी (Da Vinci Robotic Surgical System), जिसका उपयोग हम रुक्मणी बिड़ला अस्पताल में कर रहे हैं। 

इस ब्लॉग में, हम रोबोटिक सर्जरी से संबंधित महत्वपूर्ण पहलू पर बात करेंगे। इसके साथ साथ यदि आपको जानना है कि आपको रोबोटिक सर्जरी की आवश्यकता है या नहीं इसकी जानकारी के लिए आप जयपुर के रुक्मणी बिड़ला अस्पताल में हमारे अनुभवी डॉक्टरों के साथ परामर्श सत्र बुक कर सकते हैं। रुक्मणी बिड़ला अस्पताल पूरे राजस्थान में इकलौता निजी अस्पताल है, जो रोबोटिक यूरोलॉजी सर्जरी की सुविधा सफलता और सुरक्षा के साथ प्रदान कर रहा है। 

रोबोटिक यूरोलॉजी सर्जरी क्या है?

रोबोटिक यूरोलॉजी सर्जरी एक प्रकार की मिनिमल इनवेसिव सर्जरी है, जिसमें एक रोबोट की सहायता से डॉक्टर सर्जरी करते हैं। ऑपरेशन करने वाले सर्जन रोबोट की सहायता से अधिक सटीकता के साथ इलाज कर पाते हैं, जिससे रोगी और सर्जन दोनों को बहुत ज्यादा लाभ मिलता है। रोबोटिक यूरोलॉजी सर्जरी को समझने के लिए तीन मुख्य चीजों को समझना बहुत ज्यादा अनिवार्य है - 

  • सर्जिकल आर्म्स : यह रोबोट के हाथ होते हैं, जिनके उपयोग के ऑपरेशन को अंजाम दिया जाता है। सर्जिकल आर्म्स 360 डिग्री तक घूम सकते हैं, जिसके कारण बिना किसी गलती के सर्जरी हो पाती है।
  • विशिष्ट लेंस: उन्हीं आर्म्स में विशेष कैमरा लगा होता है, जिसकी सहायता से डॉक्टर को विशिष्ट लेंस में उसी क्षण सर्जिकल क्षेत्र का 3डी इमेज प्राप्त हो जाता है। 
  • सर्जिकल कंसोल: इस उपकरण का प्रयोग ऑपरेटिंग सर्जन करते हैं। यह एक प्रकार का डैशबोर्ड है, जिससे सर्जन रोबोट को कंट्रोल करते हैं। 

रोबोटिक यूरोलॉजी सर्जरी के दौरान क्या होता है?

रोबोटिक यूरोलॉजी सर्जरी के दौरान, सर्जन एक कंसोल पर बैठे होते हैं। सर्जरी के दौरान सर्जन इस प्रकार बैठते हैं कि उनके हाथ कंसोल पर होते हैं और आंखों पर एक लेंस लगा होता है, जिससे वह रोगी के सर्जिकल क्षेत्र को साफ-साफ देख पाते हैं। कंसोल से सर्जन रोबोट के हाथों को नियंत्रित करते हैं। रोबोट के हाथों में छोटे और जटिल उपकरण होते हैं, जो मानव हाथों की तुलना में अधिक सटीक और नियंत्रित गति से सर्जरी करते हैं। 

ऑपरेटिंग यूरो-सर्जन प्रक्रिया की आवश्यकता के अनुसार एक या एक से अधिक छोटे कट लगाते हैं। कट का आकार ओपन सर्जरी की तुलना में बहुत छोटे होते हैं। यूरो-सर्जन ऑपरेटिंग टेबल से कुछ फीट की दूरी पर एक कंसोल पर होते हैं, लेकिन मेडिकल सहायक विशेषज्ञ रोबोट के साथ ही मौजूद होते हैं। उसी ऑपरेशन थियेटर में एक टीवी स्क्रीन भी होती है, जिससे वहां मौजूद मेडिकल विशेषज्ञों को प्रक्रिया के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त होती है। 

रोबोट की सहायता से बहुत सारे यूरोलॉजिकल सर्जरी हो सकती है जैसे - 

  • प्रॉस्टेटेक्टोमी: रोबोट असिस्टेड रेडिकल प्रॉस्टेटेक्टोमी में हम दा विंची रोबोटिक सर्जिकल सिस्टम का प्रयोग करते हैं। यह एक आधुनिक प्रक्रिया है, जिसमें रोबोट की सहायता से प्रोस्टेट को हटाया जाता है। इससे रोगी को प्रोस्टेट की समस्या से त्वरित राहत मिल जाती है।
  • नेफ्रेक्टोमी: पार्शियल या रेडिकल नेफ्रेक्टोमी में रोबोट की सहायता से सर्जन पूरी किडनी या उसके कुछ हिस्से को निकाल लेते हैं। 
  • पायलोप्लास्टी और रिकंस्ट्रक्टिव सर्जरी (इंट्रा-एब्डोमिनल): रोबोट असिस्टेड पायलोप्लास्टी किडनी और मूत्र वाहिनी के बीच के रुकावट को ठीक करने की एक प्रक्रिया है। यह सर्जरी हाल के समय में बहुत ज्यादा लोकप्रिय हुई है। 

इनके अतिरिक्त और भी ज्यादा यूरोलॉजिकल प्रक्रिया है, जिसमें रोबोट का उपयोग किया जाता है। 

रोबोटिक यूरोलॉजी सर्जरी के फायदे

मानक सर्जिकल तकनीकों की तुलना में रोबोटिक यूरोलॉजी सर्जरी के बहुत सारे फायदे हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि अनुभवी सर्जन की विशेषज्ञता का मिलन रोबोटिक मशीन की सटीकता से होता है। मानक सर्जिकल प्रक्रियाओं की तुलना में रोबोटिक सर्जरी के कई फायदे हैं, जो सर्जन के साथ-साथ मरीजों को भी बहुत लाभ देते हैं। चलिए दोनों को ही होने वाले लाभ के बारे में जानते हैं ।

सर्जन को लाभ

  • अधिक नियंत्रण: दा विंची रोबोटिक सर्जिकल सिस्टम सर्जन को अधिक नियंत्रण प्रदान करता है। रोबोट की सहायता से गलती होने का जोखिम बहुत कम होती है। रोबोट सर्जरी की सहायता से सर्जिकल क्षेत्र के आस-पास के ऊतकों को कोई नुकसान नहीं होता है। 
  • बेहतर दृश्य: दा विंची रोबोटिक सर्जिकल सिस्टम एक 3डी हाई-डेफिनिशन विज़ुअलाइज़ेशन प्रणाली है। रोबोट की सहायता से सर्जन सर्जिकल क्षेत्र का 3डी इमेज देख पाते हैं। इसके कारण सर्जन समस्या वाले क्षेत्र की पहचान कर लेते हैं, जिससे जटिलताओं का खतरा कम हो जाता है।

मरीजों को लाभ

  • मिनिमल इनवेसिव तकनीक: रोबोटिक यूरोलॉजी सर्जरी में ओपन सर्जरी की तुलना में बहुत ज्यादा छोटा कट लगाया जाता है। इसके कारण सर्जरी के दौरान रक्त हानि कम होती है और सर्जरी के बाद रोगी को दर्द भी कम होता है। 
  • कम जटिलताएं: रोबोटिक सर्जिकल सिस्टम आधुनिक तकनीक है, जिसमें प्रक्रिया के दौरान जटिलताओं का जोखिम बहुत कम होता है। सर्जन बिना किसी समस्या के दुर्गम क्षेत्रों तक पहुंच जाते हैं, जिससे इलाज में जटिलताओं का जोखिम कम हो जाता है और इलाज के सफल परिणाम जल्दी दिखने लगते हैं। 
  • जल्द रिकवरी: सर्जरी के बाद या दौरान रक्त हानि की संभावना नहीं होती है, जो कि इस सर्जरी का महत्वपूर्ण पहलू है। इसके कारण रोगी जल्द रिकवर हो जाते हैं और अपने सामान्य जीवन में जल्द से जल्द वापसी कर सकते हैं।

रोबोटिक यूरोलॉजी सर्जरी से संबंधित मिथक और तथ्य

मिथक

तथ्य

सर्जरी रोबोट करते हैं।

रोबोट कोई भी सर्जरी स्वयं नहीं कर सकता है। रोबोट एक माध्यम है, जिसे संचालित करने के लिए एक कुशल सर्जन की आवश्यकता होती है, जो सर्जरी के दौरान कंसोल पर बैठते हैं और सर्जरी करते हैं। 

ओपन सर्जरी सबसे सटीक होती है क्योंकि सर्जन ऑपरेशन वाले क्षेत्र को साफ-साफ देख पाता है।

रोबोट असिस्टेड तकनीक की सहायता से सर्जन ऑपरेशन वाले क्षेत्र को अधिक स्पष्टता से देख पाते हैं। रोबोट में कैमरा होता है, जो 3डी चित्रों को उच्च-रिज़ॉल्यूशन के साथ सर्जन को दिखाता है।

रोबोटिक सर्जरी आसान है और हर कोई कर सकता है

किसी भी अन्य सर्जरी की तरह ही रोबोटिक सर्जरी के लिए ज्ञान और क्षमताओं की मजबूत नींव की आवश्यकता होती है। ओपन या लेप्रोस्कोपिक सर्जरी की तुलना में रोबोटिक सर्जरी का इंटरफ़ेस पूरी तरह से अलग है, और बेहतर परिणाम के लिए इस तकनीक के साथ विशिष्ट विशेषज्ञता और प्रशिक्षण की आवश्यकता होती है। यही कारण है कि हर सर्जन इस सर्जरी को नहीं कर सकता है। 

रोबोटिक सर्जरी केवल जटिल सर्जिकल प्रक्रियाओं के लिए उपयोग की जाती है।

रोबोटिक सर्जरी का उपयोग कई प्रकार की स्थितियों के इलाज के लिए किया जाता है। रोबोटिक सर्जरी का उपयोग प्रोस्टेट कैंसर, किडनी कैंसर, गुर्दे की पथरी, मूत्राशय की पथरी और प्रोस्टेट हाइपरप्लासिया (BPH) के इलाज के लिए किया जाता है।

रोबोटिक सर्जरी में कम दर्द होता है।

यह सच है कि रोबोटिक सर्जरी में दर्द कम होता है, क्योंकि इसमें छोटे कट लगाए जाते हैं। लेकिन सर्जरी के बाद रोगी को कुछ समय के लिए दर्द और असुविधा का सामना करना पड़ सकता है।

निष्कर्ष

रुक्मणी बिड़ला अस्पताल में दा विंची रोबोटिक सर्जरी सिस्टम ने निस्संदेह यूरोलॉजी सर्जरी का अनुभव पूर्ण रूप से बदल दिया है। रोबोटिक सर्जरी सिस्टम के कई लाभ है, जैसे ज्यादा सटीकता, मिनिमल इनवेसिव तकनीक और त्वरित रिकवरी। भविष्य में मेडिकल फील्ड के साथ साथ पूरे विश्व में रोबोट और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एक नई दुनिया का निर्माण करने वाले हैं, जिससे अंततः सर्जन और रोगियों दोनों को समान रूप से लाभ होगा।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

 

क्या रोबोटिक सर्जरी सुरक्षित है?

हाँ, रोबोटिक सर्जरी सबसे सुरक्षित और सबसे प्रभावी सर्जिकल प्रक्रिया है। इस सर्जरी के बाद जोखिम और जटिलताओं का खतरा भी बहुत ज्यादा कम हो जाता है। 

क्या रोबोटिक सर्जरी के बाद दर्द नहीं होता है?

हर सर्जरी के बाद रोगी को दर्द का अनुभव हो सकता है। लेकिन ओपन सर्जरी या लेप्रोस्कोपिक सर्जरी की तुलना में रोबोटिक यूरोलॉजी सर्जरी के बाद दर्द कम होता है। 

रोबोटिक सर्जरी से संबंधित जोखिम क्या है?

सामान्यतः रोबोटिक सर्जरी के कोई भी जोखिम और जटिलताएं नहीं होती हैं, लेकिन कुछ समस्या है, जो रोगी को परेशान कर सकती है जैसे - सांस लेने में तकलीफ, रक्त हानि, इत्यादि।