Enquire NowCall Back Whatsapp Lab report/login
न्यूट्रोफिल बढ़ने का कारण और उपचार

Home > Blogs > न्यूट्रोफिल बढ़ने का कारण और उपचार

न्यूट्रोफिल बढ़ने का कारण और उपचार

Internal Medicine | by Dr. Sujoy Mukherjee | Published on 26/05/2023



न्यूट्रोफिल एक प्रकार की श्वेत रक्त कोशिका है, जो शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली का महत्वपूर्ण भाग है। यह कोशिकाएं संक्रमण से लड़ने में मदद करती हैं। यदि रक्त परीक्षण में न्यूट्रोफिल की संख्या में उतार-चढ़ाव आता है तो इसका अर्थ यह है कि आपके शरीर में कोई संक्रमण है।

चलिए इस ब्लॉग पोस्ट से हम न्यूट्रोफिल बढ़ने के कारणों और उपचारों के बारे में जानते हैं। यदि आपके रक्त में न्यूट्रोफिल के स्तर में उतार चढ़ाव आया है तो हम आपको सलाह देंगे कि आप सबसे पहले एक अच्छे डॉक्टर से मिलें।

न्यूट्रोफिल क्या है?

न्यूट्रोफिल एक प्रकार की श्वेत रक्त कोशिका (ल्यूकोसाइट्स) है, जो शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली की रक्षा की पहली पंक्ति के रूप में कार्य करती है। श्वेत रक्त कोशिकाएं तीन प्रकार की होती हैं: ग्रेन्यूलोसाइट्स, लिम्फोसाइट्स और मोनोसाइट्स। न्यूट्रोफिल ईोसिनोफिल और बेसोफिल कोशिकाओं के साथ-साथ ग्रेन्यूलोसाइट्स का एक उपसमूह है। साथ में श्वेत रक्त कोशिकाएं आपके शरीर को संक्रमण और चोट से बचाती हैं।

न्यूट्रोफिल को प्रभावित करने वाले सामान्य स्थिति

शरीर को सामान्य रूप से कार्य करने के लिए शरीर में न्यूट्रोफिल की एक विशिष्ट संख्या मौजूद होनी चाहिए। यदि आपका न्यूट्रोफिल काउंट बहुत अधिक या बहुत कम है, तो इसका अर्थ यह है कि आपको श्वेत रक्त कोशिकाओं से संबंधित कोई समस्या है। निम्नलिखित समस्याएं है, जो न्यूट्रोफिल के बढ़ते और उतरते स्तर के कारण उत्पन्न होते हैं - 

  • न्यूट्रोपेनिया: न्यूट्रोपेनिया एक ऐसी स्थिति है, जहां आपके रक्त में न्यूट्रोफिल की संख्या बहुत कम होती है, जिससे सूजन और बार-बार संक्रमण की समस्या उत्पन्न होती है। न्यूट्रोपेनिया के कारणों में कैंसर का इलाज, ऑटोइम्यून डिजीज या संक्रमण शामिल है।
  •  न्यूट्रोफिलिया: न्यूट्रोफिलिया, जिसे न्यूट्रॉफिलिक ल्यूकोसाइटोसिस भी कहा जाता है, तब होता है जब आपकी न्यूट्रोफिल गिनती बहुत अधिक होती है, जो अक्सर जीवाणु संक्रमण का परिणाम होती है। संक्रमण का मुकाबला करने के लिए, अपरिपक्व न्यूट्रोफिल आपके अस्थि मज्जा (बोन मैरो) को बहुत जल्दी छोड़ देते हैं और आपके रक्त प्रवाह में प्रवेश करते हैं।

न्यूट्रोफिल बढ़ने का कारण

आपके रक्त में न्यूट्रोफिल का उच्च प्रतिशत होने को न्यूट्रोफिलिया कहा जाता है। यह एक संकेत है कि आप संक्रमित है। न्यूट्रोफिलिया कई अंतर्निहित स्थितियों और कारकों को इंगित करता है, जिनमें निम्न शामिल है - 

  • जीवाणु से संक्रमण
  • गैर-संक्रामक सूजन
  • चोट
  • ऑपरेशन
  • सिगरेट पीना या तंबाकू का सेवन करना
  • उच्च तनाव का स्तर
  • अत्यधिक व्याेयाम
  • स्टेरॉयड का उपयोग
  • दिल के दौरे
  • क्रोनिक मिलॉइड ल्यूकेमिया

निम्न न्यूट्रोफिल स्तरों का क्या कारण है?

न्यूट्रोफिल की कम संख्या अक्सर दवाओं से जुड़ी होती है, लेकिन वह अन्य कारकों या बीमारी का संकेत भी हो सकती हैं, जैसे - 

  • कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली
  • अस्थि मज्जा की विफलता (बोन मैरो फेल्योर)
  • अविकासी खून की कमी (अप्लास्टिक एनिमिया)
  • फेब्राइल न्यूट्रोपेनिया, जो कि एक मेडिकल इमरजेंसी है
  • जन्मजात विकार, जैसे कोस्टमैन सिंड्रोम और चक्रीय न्यूट्रोपेनिया
  • हेपेटाइटिस ए, बी या सी
  • एचआईवी/एड्स
  • सेप्सिस
  • संधिशोथ सहित ऑटोइम्यून रोग
  • ल्यूकेमिया
  • मयेलोडिस्प्लास्टिक सिंड्रोम
  • कीमोथेरेपी में उपयोग होने वाली दवाएं

यदि आपका न्यूट्रोफिल काउंट 1,500 न्यूट्रोफिल प्रति माइक्रोमीटर से कम हो जाती है, तो संक्रमण का सबसे बड़ा खतरा होता है। न्यूट्रोफिल की बहुत कम संख्या जीवन के लिए खतरनाक संक्रमण का कारण बन सकता है। यदि आपके न्यूट्रोफिल की संख्या अधिक है, तो इसका मतलब यह है कि आपको संक्रमण है या आप बहुत अधिक तनाव में है। यह अधिक गंभीर स्थितियों का लक्षण भी हो सकता है।

न्यूट्रोपेनिया, या कम न्यूट्रोफिल स्तर दो तरीके से लोगों को परेशान कर सकती है। या तो यह कुछ ही हफ्तों में ठीक हो जाएगी, या फिर इसके कारण आपको लंबे समय तक बहुत सारी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। यह अन्य स्थितियों और बीमारियों का लक्षण भी हो सकता है। कई मामलों में देखा गया है कि इसके कारण रोगी को गंभीर संक्रमण का सामना करना पड़ा है। यदि असामान्य न्यूट्रोफिल गणना एक अंतर्निहित स्थिति के कारण होती है, तो आपको इलाज के लिए तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए। 

न्यूट्रोफिल कैसे घटाएं

न्यूट्रोफिल की मात्रा बढ़ने पर किसी भी घरेलू उपचार की जगह तुरंत डॉक्टर से मिलकर इस स्थिति के इलाज पर विचार करें। जांच के बाद डॉक्टर इलाज के सही विकल्प का सुझाव दे सकते हैं। इलाज के विकल्प का सुझाव हमेशा न्यूट्रोफिल के स्तर के आधार पर लिया जाता है। 

न्यूट्रोफिल कैसे बढ़ाएं

न्यूट्रोफिल के बढ़ते स्तर को कम करने के लिए सबसे पहले आप डॉक्टर से बात करें। डॉक्टर स्थिति का निदान कर निम्नलिखित दिशा-निर्देश का सुझाव दे सकते हैं - 

  • हाथों और पैरों को नियमित रूप से हल्के गर्म पानी से धोएं
  • फेस मास्क लगाएं
  • सर्दी या फ्लू वाले लोगों से दूर रहें
  • मुंह के स्वास्थ्य का खास ध्यान रखें
  • विटामिन सी से भरपूर फलों और सब्जियों के साथ स्वस्थ आहार का पालन करें
  • विटामिन ई और जिंक को भी अपने आहार में शामिल करें
  • ओमेगा-3 फैटी एसिड और विटामिन बी-12 से भरपूर खाद्य पदार्थों को खाने से लाभ मिलेगा
  • कच्चे मांस, मछली और अंडे आदि के सेवन से बचें
  • सभी खाद्य पदार्थों को अच्छी तरह धोने के बाद ही खाएं 
  • स्थिति गंभीर होने पर डॉक्टर बोन मैरो ट्रांसप्लांट करने का सुझाव दे सकते हैं

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

 

न्यूट्रोफिल अधिक होने पर क्या होता है?

यदि आपके रक्तप्रवाह में बहुत अधिक न्यूट्रोफिल है, तो आपके शरीर में ल्यूकोसाइटोसिस, या श्वेत रक्त कोशिका की संख्या बढ़ सकती है। साथ ही आपको बुखार या बार-बार होने वाले संक्रमण जैसे लक्षण हो सकते हैं। यह लक्षण एक अंतर्निहित स्वास्थ्य स्थिति का संकेत देती है।

न्यूट्रोफिल बढ़ने से कौन सा रोग होता है?

न्युट्रोफिल बढ़ने से अनेक बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है, जिसमें हेपटाइटिस ए, बी और सी, एचआईवी, सेप्सिस और ल्यूकेमिया आदि शामिल है। इसलिए इस समस्या के लक्षण को अनुभव करते ही आपको जल्द से जल्द विशेषज्ञ से परामर्श करना चाहिए।

प्रेगनेंसी में नॉर्मल न्यूट्रोफिल काउंट क्या है?

प्रेगनेंसी के दौरान, न्यूट्रोफिल की संख्या आमतौर पर प्रति माइक्रोलीटर 13,200 से 15,900 न्यूट्रोफिल तक बढ़ जाती है। रक्त प्रवाह में अधिकांश बढ़ी हुई श्वेत रक्त कोशिकाएं न्यूट्रोफिल हैं। योनि प्रसव के बाद, WBC की संख्या लगभग 12,620 न्यूट्रोफिल प्रति माइक्रोलीटर तक गिर जाती है।

न्यूट्रोफिल का मुख्य कार्य क्या है?

जब बैक्टीरिया या वायरस जैसे सूक्ष्मजीव शरीर में प्रवेश करते हैं, तो न्यूट्रोफिल प्रतिक्रिया देने वाली पहली प्रतिरक्षा कोशिकाओं में से एक होती है। वह सूक्ष्मजीवों को नष्ट कर देते हैं और उन्हें मारने वाले एंजाइम को छोड़ देते हैं। न्यूट्रोफिल अन्य प्रतिरक्षा कोशिकाओं की प्रतिक्रिया को भी बढ़ावा देते हैं।