Enquire NowCall Back Whatsapp Lab report/login
मुंहासे (Acne): कारण, लक्षण, निदान, व उपचार

Home > Blogs > मुंहासे (Acne): कारण, लक्षण, निदान, व उपचार

मुंहासे (Acne): कारण, लक्षण, निदान, व उपचार

Dermatology | by Dr. Sanjay Agarwal | Published on 15/12/2023



मुंहासे को अंग्रेजी भाषा में एक्ने कहा जाता है, जो कि त्वचा की एक सामान्य समस्या है। मुख्य रूप से यह समस्या युवाओं को परेशान करती है, लेकिन हर उम्र के लोग कील मुंहासे की समस्या से परेशान हैं। इस रोग का सीधा संबंध आपकी सुंदरता से है। 17-21 वर्ष की उम्र में मुंहाकों का होना एक सामान्य बात है, क्योंकि इस दौरान शरीर में हार्मोन में बदलाव लगातार होता रहता है। इसका इलाज संभव है, लेकिन आपको इससे पहले यह जानना होगा कि मुंहासे क्यों होते हैं और इसका सही उपचार क्या है।

मुंहासे क्या है?

जैसा कि हम जानते हैं कि मुंहासा एक त्वचा रोग है और यह हर उम्र के लोगों को प्रभावित करता है। यह रोग उन लोगों को अधिक प्रभावित करता है, जिनकी त्वचा ऑयली होती है। सामान्यतः यह समस्या तब उत्पन्न होती है जब व्यक्ति की त्वचा की तेल ग्रंथियां बहुत अधिक तेल का उत्पादन करने लगती है। अतिरिक्त तेल आपके चेहरे के बालों के जड़ को बंद कर देते हैं, जिससे बैक्टीरिया पनपते हैं। अंत में यह सूजन और मुंहासे का कारण बन सकते हैं। मुंहासे जवानी के दिनों में लड़कों और लड़कियों दोनों को ही प्रभावित करते हैं। 

मुंहासे कितने प्रकार के होते हैं 

मुंहासे कई प्रकार के होते हैं, जैसे - 

  • फंगल मुंहासे: फंगल मुंहासे तब होते है, जब आपके चेहरे के बालों में यीस्ट जमा हो जाता है। इसके कारण व्यक्ति को खुजली और सूजन का सामना करना पड़ता है।
  • सिस्टिक मुंहासे: सिस्टिक मुंहासे गहरे, मवाद से भरे फुंसी और गांठ होती है। इसके कारण चेहरे पर निशान बन जाते हैं। 
  • हार्मोनल मुंहासे: हार्मोनल मुंहासे उन वयस्कों को प्रभावित करते हैं, जिनके चेहरे पर सीबम का अत्यधिक उत्पादन होता है, जिसके कारण त्वचा के छिद्र बंद हो जाता है। 
  • नोड्यूलर मुंहासे: नोड्यूलर मुंहासे एक गंभीर प्रकार का मुंहासा है। यह व्यक्ति की त्वचा की सतह पर पिंपल्स का कारण बनता है और इसकी शुरुआत त्वचा के नीचे होती है, जो उसे बहुत ज्यादा प्रभावकारी बनाता है। 

मुख्य रूप से मुंहासे व्यक्ति के आत्मसम्मान को प्रभावित करते हैं। इस संबंध में हम आपको सलाह देंगे कि आप जल्द से जल्द एक अनुभवी और श्रेष्ठ त्वचा रोग विशेषज्ञ से परामर्श करें।

कील-मुंहासे क्यों होते हैं

कील-मुंहासे क्यों होते हैं इसका कोई एक जवाब नहीं है। अलग-अलग कारक हैं जिनकी वजह से कील-मुंहासे की समस्या आपको परेशान करती है। मुंहासे होने के कुछ कारणों को नीचे विस्तार से बताया गया है - 

  • हार्मोन में बदलाव: युवावस्था में हार्मोन में बदलाव होना एक आम प्रक्रिया है। इस हार्मोन में बदलाव के कारण व्यक्ति के शरीर में कई बदलाव आते हैं, जिससे त्वचा पर बनने वाले तेल ग्रंथियों में बढ़ोतरी होती है और व्यक्ति मुंहासे का सामना करता है। 
  • शरीर में पानी की कमी: पानी हमारे शरीर के लिए बहुत ज्यादा आवश्यक है। इसके कारण हमारे शरीर में हार्मोन संतुलित रहते हैं। शरीर में पानी की कमी के कारण भी मुंहासे निकलते हैं। 
  • बैक्टीरिया और संक्रमण: जब धूल-मिट्टी और प्रदूषण चेहरे के संपर्क में आते हैं, तो बैक्टीरिया और संक्रमण की समस्या उत्पन्न होती है और मुंहासे बनते हैं। 
  • धूप में अधिक समय बिताना: धूप में अधिक समय व्यतीत करना भी मुंहासे का एक बहुत बड़ा कारण है। 
  • ज्यादा मेकअप और कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स का उपयोग: कॉस्मेटिक और मेकअप प्रोडक्ट्स के उपयोग से मुंहासे होने की संभावना बहुत ज्यादा बढ़ जाती है। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि यह सारे उत्पाद केमिकल्स से बनते हैं, जिससे हमारी त्वचा प्रभावित होती है। 
  • तला-भुना और मीठा खाना: अधिक तला हुआ भोजन खाने से शरीर में तेल की मात्रा में वृद्धि होती है, जिससे हमारे चेहरे पर भी अतिरिक्त तेल जमता है। अंततः यह मुहांसों के उत्पन्न होने का कारण बनता है।
  • गर्भनिरोधक दवाएं: गर्भनिरोधक दवाओं के कारण शरीर में हार्मोन में असंतुलन का सामना करना पड़ता है। इन दवाओं के कारण एण्ड्रोजन और प्रोजेस्ट्रोन के स्तर में संतुलन नहीं होता है। इस स्थिति का इलाज बहुत ज्यादा अनिवार्य है। 
  • आनुवांशिक: कई डॉक्टर मानते हैं कि जेनेटिक भी मुंहासों का मुख्य कारण है। ऐसे कई मामले सामने आए हैं, जिनमें व्यक्ति को यह समस्या उनके माता-पिता से मिली है। 

मुंहासे के लक्षण 

मुंहासे के लक्षण कभी भी समय से पहले नहीं दिखते हैं। जब तक मुंहासे पूरी तरह से त्वचा पर विकसित नहीं होते हैं तब तक व्यक्ति किसी भी लक्षण का अनुभव नहीं करते हैं। मुँहासों के कारण व्यक्ति निम्नलिखित लक्षणों का अनुभव कर सकते हैं जैसे - 

  • फुंसी
  • चेहरे पर दाने
  • ब्लैकहेड्स
  • व्हाइटहेड्स
  • सिस्ट

इन लक्षणों के साथ साथ त्वचा पर खुजली भी होती है जो कील-मुंहासे के मुख्य लक्षणों में से एक है।

चेहरे से कील मुंहासे हटाने के उपाय 

चेहरे के कील मुंहासे हटाने के लिए बहुत सारे उपाय है और उनमें से कुछ उपाय आप स्वयं ही कर सकते हैं। हमने कुछ सामान्य उपायों को नीचे बताया है - 

  • सही स्किनकेयर रूटीन: अच्छा स्किनकेयर रूटीन चेहरे के लिए बहुत लाभकारी साबित होता है। समय-समय पर केमिकल रहित फेस वॉश का प्रयोग करें और मॉइस्चराइजिंग क्रीम का उपयोग करें।
  • मुंहासों को न छेड़ें - कुछ लोग मुंहासों को दबा कर फोड़ देते हैं, जो कि एक बहुत ही खराब आदत है। ऐसा बिल्कुल नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से त्वचा को बहुत ज्यादा नुकसान पहुंच सकता है। इसके अतिरिक्त संक्रमण का खतरा भी कई गुणा बढ़ जाता है। 
  • प्रॉपर डाइट लें: प्रयास करें कि तले भुने और प्रोसेस्ड फूड से दूरी बनाएं। स्वस्थ आहार से मुंहासों की समस्या कम हो जाती है। यदि आप अपने आहार में हल्दी और विटामिन ई के सेवन को बढ़ाते हैं, तो इससे आपको बहुत लाभ मिलेगा। 
  • ऑयल फ्री प्रोडक्ट यूज़ करें: मुंहासें अक्सर ऑयली स्किन वाले लोगों को प्रभावित करता है। यही कारण है कि स्किन के लिए ऑयल-फ्री और कॉमेडोजेनिक प्रोडक्ट का ही उपयोग करें। 
  • अपनी जीवनशैली में बदलाव लाएं: स्वस्थ जीवनशैली आपको बहुत सारी समस्याओं से बचा सकता है। मुंहासों से बचने के लिए अपना दिनचर्या ठीक करें।

चेहरे से कील मुंहासे हटाने का इलाज

मुंहासे के इलाज के लिए आपको एक त्वचा रोग विशेषज्ञ से मिलना चाहिए। इलाज के लिए डॉक्टर ट्रॉपिकल दवाएं दे सकते हैं जैसे जेल, क्रीम, लोशन या सॉल्यूशन जिन्हें त्वचा पर लगाया जाता है। डॉक्टर के द्वारा दी जाने वाली प्रमुख दवाएं निम्नलिखित है - 

  • बेंजोयल पेरोक्साइड जो बैक्टीरिया को नष्ट करने में कारगर है।
  • टेज़ेरोटेन, ट्रेटीनोइन और एडापेलीन जैसे रेटिनोइड्स नए मुंहासे को आने से रोकने में मदद कर सकते हैं।
  • एरिथ्रोमाइसिन और क्लिंडामाइसिन जैसे एंटीबायोटिक क्रीम मुंहासे को उत्पन्न करने वाले बैक्टीरिया के निर्माण को धीमा करते हैं। 
  • व्हाइटहेड्स और ब्लैकहेड्स से भरे ऑयल और डेड स्किन सेल्स को खाली करने के लिए सैलिसिलिक एसिड नाम की दवा का प्रयोग होता है। 
  • अन्य दवाएं जैसे डैपसोन और एजीलैक एसिड का सुझाव डॉक्टर देते हैं।

मुंहासे से संबंधित अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

 

चेहरे पर बार-बार पिंपल्स क्यों होते हैं?

चेहरे पर पिंपल्स के होने के कई कारण होते हैं। अधिक मात्रा में धूम्रपान और शराब का सेवन पिंपल्स का मुख्य कारण है। इसके अतिरिक्त जेनेटिक कारणों की वजह से भी पिंपल्स बार-बार एक व्यक्ति को परेशान करता है। यदि किसी व्यक्ति की त्वचा ऑयली है, तो भी उसे पिंपल्स की समस्या बार-बार परेशान करती है। 

लड़कों के चेहरे पर से पिंपल कैसे हटाए?

चेहरे पर पिंपल लड़के और लड़कियों को एक समान ही परेशान करते हैं। इसके लिए आप कुछ उपायों का पालन कर सकते हैं जैसे - 

  • सही स्किनकेयर रूटीन
  • मुंहासों को न छेड़ें 
  • प्रॉपर डाइट लें
  • ऑयल फ्री प्रोडक्ट यूज़ करें
  • अपनी जीवनशैली में बदलाव लाएं

इसके अतिरिक्त आप डॉक्टर की सलाह भी ले सकते हैं। वह आपकी मदद कर सकते हैं। 

पिंपल किसकी कमी से होते हैं?

डॉक्टरों की मानी जाए तो शरीर में पानी और विटामिन A की कमी से चेहरे पर पिंपल्स निकल आते हैं। डॉक्टर इस स्थिति के इलाज के लिए खुद को हाइड्रेट रखने और विटामिन A के सेवन का भी सुझाव देते हैं।