Enquire now
Enquire NowCall Back Whatsapp Lab report/login
जयपुर में हेयर ट्रांसप्लांट

Home > Blogs > जयपुर में हेयर ट्रांसप्लांट

जयपुर में हेयर ट्रांसप्लांट

Dermatology | Posted on 03/19/2024 by Dr. Asma Akhlaq



पिछले कुछ समय से लोग गंजेपन के प्रति सचेत हो गए हैं। यही कारण है कि पिछले दो दशकों में हेयर ट्रांसप्लांट की लोकप्रियता बढ़ गई है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि बीते कुछ वर्षों में गंजेपन के इलाज के लिए प्रयोग होने वाली तकनीकों में आधुनिकरण आया है, जिससे जटिलताओं के साथ-साथ बाल के इलाज का खर्च भी कम हुआ है।

यदि आप गंजेपन से परेशान हैं और जयपुर में इस स्थिति के स्थायी समाधान की इच्छा रखते हैं, तो आप हमारे डॉक्टरों से बात कर सकते हैं। हमारे डॉक्टर रोगी की त्वचा के अनुसार गंजेपन के इलाज की योजना बनाते हैं। चलिए सबसे पहले जानते हैं कि हेयर ट्रांसप्लांट क्या है और इससे संबंधित किस प्रकार की जानकारी आपको इलाज से पहले होनी चाहिए।

हेयर ट्रांसप्लांट क्या है?

लोगों के मन में हेयर ट्रांसप्लांट के संबंध में कई प्रश्न उत्पन्न होते हैं। इसी कारणवश लोग हेयर ट्रांसप्लांट नियर मी को गूगल पर बहुत सर्च करते हैं। यह एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसमें प्लास्टिक सर्जन या डर्मेटोलॉजिकल सर्जन बालों के गंजेपन को दूर करने के लिए शरीर या फिर सिर के दूसरे भाग से बाल लगाते हैं। आमतौर पर सर्जन सिर के पीछे या किनारे के बालों का प्रयोग करते हैं। प्रक्रिया से पहले सर्जन रोगी के ऊपर एनेस्थीसिया का प्रयोग करते हैं ताकि प्रक्रिया के दौरान रोगी को किसी भी प्रकार की कोई असुविधा न हो।

ज्यादातर मामलों में बाल के झड़ने के पीछे का कारण मेल पैटर्न बाल्डनेस होता है। गंजेपन का एक और प्रमुख कारण है और वह है जीन्स। सही इलाज का विकल्प चुनें और गंजेपन से हमेशा के लिए राहत पाएं।

हेयर ट्रांसप्लांट में क्या होता है?

हेयर ट्रांसप्लांट से पहले डॉक्टर कुछ परीक्षण करवाते हैं जैसे कंपलीट ब्लड काउंट, एचआईवी, रैंडम ब्लड शुगर, एचबी, ईसीजी, एचआईवी एलिसा सहित कुछ अन्य रक्त परीक्षण। इससे अन्य स्वास्थ्य समस्याओं की संभावना को खारिज किया जा सकता है।

हेयर ट्रांसप्लांटेशन में सर्जन पूरे शरीर का भी परीक्षण करते हैं और जांच करते हैं कि हेयर ट्रांसप्लांट में शरीर के किस भाग के बाल का उपयोग किया जाएगा। जहां से बाल लिया जाता है, उसे डोनर साइट कहा जाता है। इस प्रक्रिया को मुख्यतः तीन तरीकों से किया जाता है। चलिए सबको एक-एक करके समझते हैं -

  • फॉलिक्युलर यूनिट ट्रांसप्लांटेशन (FUT): इस प्रक्रिया में सर्जन सिर की पीछे से त्वचा का एक पतले स्ट्रिप को हटाते हैं। फिर, वह इस स्ट्रिप को छोटे-छोटे ग्राफ्ट में बांटते हैं, और उन्हें उस क्षेत्र में ट्रांसप्लांट कर देते हैं जहां पर गंजापन होता है।
  • फॉलिक्युलर यूनिट एक्सट्रैक्शन (FUE): इस प्रक्रिया में डॉक्टर सिर के पिछले भाग से एक-एक करके बालों के रोम को निकालते हैं। फिर, वह इन रोम को उस क्षेत्र पर लगाते हैं, जहां पर बालों को लगाना होता है। इस प्रक्रिया में सर्जन सैकड़ों या हजारों बालों को ट्रांसप्लांट कर सकते हैं। इस प्रक्रिया को करने के लिए चार घंटे या उससे भी अधिक समय लग सकता है।
  • डायरेक्ट हेयर इम्प्लांटेशन (DHI): यह प्रक्रिया फॉलिक्युलर यूनिट एक्सट्रैक्शन के समान ही होती है। इसमें बालों को निकालने के लिए और बालों को ट्रांसप्लांट करने के लिए एक विशेष उपकरण का उपयोग किया जाता है।

हेयर ट्रांसप्लांट के नुकसान

सामान्यतः हेयर ट्रांसप्लांट एक सुरक्षित और प्रभावी प्रक्रिया है, लेकिन दूसरी प्रक्रियाओं की तरह ही इसके कुछ संभावित साइड इफेक्ट भी होते हैं, जो कुछ ही दिनों में ठीक हो जाते हैं। हालांकि कुछ गंभीर मामलों में तुरंत डॉक्टरों से बात करने की सलाह दी जाती है। चलिए इस प्रक्रिया के साइड इफेक्ट के बारे में जानते हैं -

हेयर ट्रांसप्लांट के सामान्य साइड इफेक्ट

  • कुछ दिनों तक दर्द और सूजन।
  • रक्त हानि।
  • फॉलिक्युलर यूनिट एक्सट्रैक्शन तकनीक में हल्के निशान का बनना
  • सर पर संक्रमण जिसे ठीक करने के लिए एंटीबायोटिक दवाओं की आवश्यकता हो।
  • खुजली और जलन
  • सोने में समस्या

हेयर ट्रांसप्लांट के गंभीर साइड इफेक्ट

  • एलर्जी एक दुर्लभ स्थिति है, लेकिन गंभीर एलर्जी के मामलों में तुरंत डॉक्टर से परामर्श लें।
  • रक्त के थक्के जमना एक गंभीर स्थिति है, जो की जानलेवा स्थिति साबित हो सकती है।
  • कई मामलों में सिर ग्राफ्ट को स्वीकार नहीं कर पाता है, जिसके कारण कुछ ग्राफ्ट गिर सकते हैं और वह हेयर फॉल जैसा दिख सकता है।

हेयर ट्रांसप्लांट के फायदे

त्वचा रोग विशेषज्ञ मानते हैं कि हेयर ट्रांसप्लांट एक स्थायी समाधान है, जो आपको अपने बालों को वापस पाने में मदद कर सकता है। इस प्रक्रिया के कुछ फायदे भी हैं। चलिए इस प्रक्रिया के फायदों के बारे में जानते हैं - 

  • स्थायी समाधान: यह बालों के झड़ने का स्थाई समाधान है।
  • आत्मविश्वास का बढ़ना: हमारे बालों का मुख्य कार्य हमें आत्मविश्वास प्रदान करना भी है।
  • युवा दिखना: कई लोगों की मंशा होती है कि वह सारी उम्र जवान दिखना चाहते हैं। हेयर ट्रांसप्लांट से यह संभव है। 
  • आसान रखरखाव: कुछ लोग हेयर ट्रांसप्लांट की जगह हेयर विग लगाने का विकल्प चुनते हैं। ऐसे में उन्हें उस विग की अधिक देखभाल करनी पड़ती है।

निष्कर्ष

हेयर ट्रांसप्लांट को गंजेपन से निपटने का एक स्थायी समाधान माना जाता है। हालांकि इलाज से पहले आपको कुछ बातों का विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता होती है जैसे -

  • अपनी आवश्यकताओं और अपेक्षाओं पर विचार करें और डॉक्टरों से बात करें ।
  • प्रक्रिया के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करें। इस ब्लॉग से आपको काफी हद तक जानकारी मिल गई होगी।
  • संभावित साइड इफेक्ट और जटिलताओं के बारे में जानें।

हेयर ट्रांसप्लांट एक महत्वपूर्ण निर्णय है। यदि आप जयपुर में अनुभवी डॉक्टर और क्लीनिक की तलाश में हैं जो हेयर ट्रांसप्लांट करे तो आप हमारे डॉक्टरों से परामर्श ले सकते हैं।

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

 

हेयर ट्रांसप्लांट कितने वर्ष तक रहेगा?

हेयर ट्रांसप्लांट स्थायी होता है, मतलब जीवन भर आपके बाल होंगे। त्वचा रोग विशेषज्ञ आपको कुछ सामान्य दिशा-निर्देश देंगे, जिससे आप अपने बालों का विशेष ध्यान रख पाएंगे। उनका पालन करें।

हेयर ट्रांसप्लांट में कितना खर्च आता है?

हेयर ट्रांसप्लांट कॉस्ट कई कारकों पर निर्भर करता है, जैसे कि चुनी गई तकनीक, सर्जन का अनुभव और आपके द्वारा उपचारित किए जाने वाले क्षेत्र का आकार। इसके साथ-साथ शहर का चुनाव और चयनित अस्पताल के आधार पर भी इस प्रक्रिया का खर्च निर्धारित होता है।

क्या हेयर ट्रांसप्लांट सेफ है?

हेयर ट्रांसप्लांट एक सुरक्षित प्रक्रिया है, लेकिन इसके कुछ संभावित साइड इफेक्ट भी हैं, जिसके बारे में हमने इस ब्लॉग में बात की है।

हेयर ट्रांसप्लांट कैसे होता है?

हेयर ट्रांसप्लांट में आपके सिर के पिछले हिस्से से बालों के रोम को निकाला जाता है और गंजे क्षेत्रों में प्रत्यारोपित किया जाता है।